Saturday, 23 February 2019, 5:01 AM

धर्म कर्म

कैसे हुआ यह करिश्मा... जब भगवान शिव ने तांडव से थक कर सुंदर रास रचाया

Updated on 22 February, 2019, 6:45
एक बार की बात है 'नटराज' भगवान शिव के तांडव नृत्य में सम्मिलित होने के लिए समस्त देवगण कैलाश पर्वत पर उपस्थित हुए। जगज्जननी माता गौरी वहां दिव्य रत्नसिंहासन पर आसीन होकर अपनी अध्यक्षता में तांडव का आयोजन कराने के लिए उपस्थित थीं। देवर्षि नारद भी उस नृत्य कार्यक्रम में... आगे पढ़े

श्री शिव निरंजनम्‌ : भगवान भोलेनाथ की यह पवित्र स्तुति आपने कहीं नहीं पढ़ी होगी

Updated on 22 February, 2019, 6:15
जय गंगाधर हर शिव, जय गिरिजाधीश त्वं मां पालन नित्यं कृपया जगदीश... हर हर महादेव कैलासे गिरिशिखरे, कल्पद्रुम विपिने शिव कल्पद्रु विपिने गुंजति मधुकर पूंजे कुंजवने गहने...हर हर महादेव कोकिल कूजति खेलति, हंसावन ललिता-शिव... रचयति कला कलापं नृत्यति संहिता... हर हर महादेव तस्मिन्ललित सुदेशे शाखा मणि रचिता-शिव... तन्मध्ये हर निकटे गौरी मुद सहिता... हर हर महादेव क्रीडां रचयति... आगे पढ़े

भगवान शिव को बिल्व पत्र क्यों है इतने प्रिय, यह कथा आपको अचरज में डाल देगी

Updated on 22 February, 2019, 6:00
नारदजी ने एक बार भोलेनाथ की स्तुति कर पूछा- प्रभु! आपको प्रसन्न करने के लिए सबसे उत्तम और सुलभ साधन क्या है? हे त्रिलोकीनाथ! आप तो निर्विकार और निष्काम हैं, आप सहज ही प्रसन्न हो जाते हैं फिर भी मेरी जानने की इच्छा है कि आपको क्या प्रिय है? शिवजी बोले-... आगे पढ़े

श्री गणेश संकष्टी चतुर्थी : कैसे करें वर्षभर के हर माह की चतुर्थी का पूजन

Updated on 21 February, 2019, 6:45
श्री भगवान गणेशजी आदिकाल से पूजित रहे हैं। वेदों में, पुराणों में (शिवपुराण, स्कंद पुराण, अग्नि पुराण, ब्रह्मवैवर्त पुराण आदि) में गणेशजी के संबंध में अनेक लीला कथाएं तथा पूजा-पद्धतियां मिलती हैं। उनके नाम से गणेश पुराण भी सर्वसुलभ है। प्राचीनकाल में अलग-अलग देवता को मानने वाले संप्रदाय अलग-अलग थे। श्री... आगे पढ़े

शिव के रुद्राभिषेक से होते हैं 18 आश्चर्यजनक लाभ, चौंक जाएंगे पढ़कर...

Updated on 21 February, 2019, 6:30
रुद्र अर्थात भूतभावन शिव का अभिषेक। शिव और रुद्र परस्पर एक-दूसरे के पर्यायवाची हैं। शिव को ही 'रुद्र' कहा जाता है, क्योंकि रुतम्-दु:खम्, द्रावयति-नाशयतीतिरुद्र: यानी कि भोले सभी दु:खों को नष्ट कर देते हैं। हमारे धर्मग्रंथों के अनुसार हमारे द्वारा किए गए पाप ही हमारे दु:खों के कारण हैं। रुद्रार्चन और... आगे पढ़े

इस वर्ष कब है महाशिवरात्रि का पर्व, जानिए शुभ मुहूर्त...

Updated on 21 February, 2019, 6:15
व्रतों में श्रेष्ठतम व्रत महाशिवरात्रि का माना गया है। इस वर्ष 2019 में यह कब आ रहा है आइए जानते हैं... देवों के देव महादेव को प्रसन्न करने वाला आस्था से परिपूर्ण महाशिवरात्रि का व्रत सबसे महत्वपूर्ण होता है। जो शख्स भगवान शिव में आस्था रखते हैं वह भोले के महाशिवरात्रि... आगे पढ़े

हर देवी-देवता का गायत्री मंत्र अलग होता है, पढ़ें 30 विशेष मंत्र

Updated on 21 February, 2019, 6:00
गायत्री मंत्र का प्राय: हर कोई जाप करता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि अलग-अलग देवी-देवताओं के लिए गायत्री मंत्र भी अलग होता है। आइए जानें विस्तार से 30 मंत्रों के बारे में... गायत्री मंत्र : " ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात् " 1. गणेश... आगे पढ़े

नारियल चढ़ाकर पा सकते है बाप्पा से मनचाहा वरदान

Updated on 20 February, 2019, 15:15
बाप्पा के आपने कई रुप देखे होंगे, लेकिन मध्यप्रदेश के महेश्वर में गजानन की गोबर की मूर्ति है। ये मूर्ति हजारों साल पुरानी है, कहते हैं यहां नारियल चढ़ाकर पा सकते है बाप्पा से मनचाहा वरदान। माथे पर मुकुट, गले में हार, और खूबूसरत श्रृंगार बाप्पा के इस मनमोहक रूप में... आगे पढ़े

इन वस्तुओं से बढ़ता है आपसी प्रेम

Updated on 20 February, 2019, 15:00
कुछ वस्तुएं ऐसे होती है जो बेहद शुभ होती हैं और आपसी प्यार बढ़ाती हैं। घर में इनके उपयोग से आपका प्रेम दिन प्रतिदिन बहुत ज्यादा बढ़ने लगेगा। ये वस्तुए और इनका प्रयोग इस प्रकार करें।  प्रेम बढ़ाने वाली वस्तुएं- गुलाबी रंग गुलाबी रंग को हमेशा से प्रेम का रंग माना जाता है... आगे पढ़े

मां कालरात्रि की आराधना करते समय रखें इन बातों का ध्यान 

Updated on 20 February, 2019, 14:45
देवी का सातवां स्वरूप मां कालरात्रि का है। मां कालरात्रि का रंग काला है और ये त्रिनेत्रधारी हैं। मां कालरात्रि के गले में कड़कती बिजली की अद्भुत माला है। इनके हाथों में खड्ग और कांटा है। मां कालरात्रि को शुभंकरी भी कहते हैं। संसार में व्याप्त दुष्टों और पापियों के... आगे पढ़े

महालक्ष्मी की विशेष कृपा ऐसे होगी 

Updated on 20 February, 2019, 14:30
शुक्र ग्रह और चंद्रमा की पूजा करने से महालक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है। वहीं कुछ कार्यों के करने से मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं और घर में दरिद्रता का वास होने लगता है, इसलिए भूलकर भी इन कार्यों को ना करें। जन्म कुंडली में शुक्र ग्रह और चंद्रमा... आगे पढ़े

बनासकांठा का नाडेश्वरी माता का मंदिर है आस्था का केन्द्र 

Updated on 20 February, 2019, 14:15
देश में कई मंदिर आस्था के प्रमुख केन्द हैं। इसके पीछे यहां होने वाले चमत्कार हैं और इससे भक्तों की आस्था और गहरी होती है। ऐसा ही एक मंदिर गुजरात के बनासकांठा में सीमा पर बना नाडेश्वरी माता का मंदिर है। यह मंदिर आम लोगों के साथ-साथ सीमा सुरक्षा बल... आगे पढ़े

मोमबत्ती बताती है आपका भविष्य, जानिए कैसे, पढ़ें रोचक जानकारी

Updated on 20 February, 2019, 6:45
मोमबत्ती आपका भविष्य बता सकती है। प्राचीन काल से ही मोमबत्ती से जीवन के गणित को समझने की कोशिश होती रही है। आइए जानते हैं विस्तार से... इतिहास : मोमबत्ती से भविष्य जानने की पद्धति रोम की विरासत मानी जाती है। इसकी बुनियाद प्रभु यीशू के महाप्रयाण के बाद मिलती है,... आगे पढ़े

हवन में 'स्वाहा' क्यों बोलते हैं, जानिए रहस्य...

Updated on 20 February, 2019, 6:00
वास्तव में अग्नि देव की पत्‍नी हैं स्‍वाहा। इसलिए हवन में हर मंत्र के बाद होता है इनका उच्‍चारण। जानिए विस्तार से... स्वाहा का अर्थ है: सही रीति से पहुंचाना। दूसरे शब्दों में कहें तो जरूरी पदार्थ को उसके प्रिय तक सुरक्षित पहुंचाना। श्रीमद्भागवत तथा शिव पुराण में स्वाहा से संबंधित... आगे पढ़े

Story of shani: इसलिए हनुमानजी के भक्तों को नहीं सताते शनि महाराज

Updated on 18 February, 2019, 6:15
हनुमानजी को न सिर्फ अजर और अमर माना जाता है, बल्कि यह भी मान्‍यता है कि जो भक्‍त प्रत्‍येक शनिवार को हनुमानजी की पूजा करते हैं, शनि उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाते। ऐसा क्‍यों होता है इसके पीछे अनेक कथाएं हैं। एक कथा तो यह है कि हनुमानजी ने रावण... आगे पढ़े

इनाम में मिले 99 सोने के सिक्के फिर भी हुआ उदास, वजह बस इतनी सी

Updated on 18 February, 2019, 6:00
राजा सैर पर जब महल से निकला, तो द्वार पर मुस्कुराते हुए एक दरबान पर नजर पडी। जब सैर करके लौटा, तब भी दरबान मुस्कुरा रहा था। बादशाह सोचने लगा ‘मैं’ राजा होते हुए भी इतना नहीं मुस्कुराता! राजा ने मंत्री से कहा कि ऐसा उपाय करो कि महल के... आगे पढ़े

बहुत ही शुभ और फलदायी है रवि प्रदोष व्रतकथा, प्रदोष के दिन अवश्‍य पढ़ें...

Updated on 17 February, 2019, 6:15
एक समय सर्व प्राणियों के हितार्थ परम पावन भागीरथी के तट पर ऋषि समाज द्वारा विशाल गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस सभा में व्यासजी के परम शिष्य पुराणवेत्ता सूतजी महाराज हरि कीर्तन करते हुए पधारे। सूतजी को आते हुए देखकर शौनकादि 88,000 ऋषि-मुनियों ने खड़े होकर दंडवत प्रणाम किया। महाज्ञानी... आगे पढ़े

रवि प्रदोष व्रत आज, देता है अच्छा स्वास्थ्य, जानें कैसे करें पूजन...

Updated on 17 February, 2019, 6:00
हमारे शास्त्रों में प्रदोष व्रत की बड़ी महिमा है। रविवार को आने वाला यह प्रदोष व्रत स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। यह व्रत करने वाले की स्वास्थ्य से संबंधित परेशानियां दूर होती हैं अत: स्वास्थ्य में सुधार होकर मनुष्य सुखपूर्वक जीवन-यापन करता है। वर्ष 2019 में... आगे पढ़े

ईश्वर वहां भी, जहां सोचा नहीं

Updated on 16 February, 2019, 6:30
ईश्वर को सर्वव्यापी कहा गया है। तो फिर उन्हें ऐसी-ऐसी जगहों पर भी मिलना चाहिए, जहां इंसान उन्हें पाने की उम्मीद भी न करता हो। आइए देखें कि हमारे महाकाव्यों में इस बारे में क्या लिखा है… शरीर का अंतिम पड़ाव  तीर्थों, धर्मस्थलों, पवित्र स्थानों में भगवान के होने की कल्पना करना... आगे पढ़े

जब शनि ने हनुमान को डराना चाहा तो मुंह की खानी पड़ी, जानें पूरी कथा

Updated on 16 February, 2019, 6:15
हनुमानजी को न सिर्फ अजर और अमर माना जाता है, बल्कि यह भी मान्‍यता है कि जो भक्‍त प्रत्‍येक शनिवार को हनुमानजी की पूजा करते हैं, शनि उनका कुछ नहीं बिगाड़ पाते। ऐसा क्‍यों होता है इसके पीछे भी एक कथा प्रचलित है। हनुमानजी रघुकुल के कुमारों को अक्‍सर कथा... आगे पढ़े

आपकी कुंडली में शुक्र कहां बैठा है? जानिए शुभ-अशुभ फल

Updated on 15 February, 2019, 6:30
इस ग्रह का अधिकार मनुष्य के चेहरे पर होता है। यह ग्रह एक राशि पर डेढ़ माह रहता है। यह वृष तथा तुला राशि का स्वामी है तथा तुला राशि पर विशेष बली रहता है। शुक्र ग्रह के गुरु सूर्य, चंद्र मित्र, बुध, शनि सम तथा मंगल शत्रु होते हैं।... आगे पढ़े

भगवान श्रीकृष्‍ण विष्णु के अवतार थे या काली के?

Updated on 15 February, 2019, 6:15
भगवान श्रीकृष्ण काली के अवतार थे या कि विष्णु के? यह सवाल कई लोगों के मन में उठ रहा होगा? कृष्ण के कई रहस्यों में से एक अनसुलझा रहस्य यह भी है। वैसे तो भगवान श्रीकृष्ण विष्णु के 8वें अवतार हैं लेकिन देवी और कालिका पुराण अनुसार वे विष्णु के नहीं... आगे पढ़े

इन पवित्र भजनों से करें एकादशी का जागरण, पढ़ें 2 लोकगीत

Updated on 15 February, 2019, 6:00
1. ग्यारस माता से मिलन कैसे होय कि पांचों खिड़की बंद पड़ी।   पहली खिड़की खोलकर देखूं, कूड़ा-कचरा होय। मुझमें इतनी अकल नहीं आई कि झाड़ू-बुहारा करती चलूं। ग्यारस माता से...   दूजी खिड़की खोलकर देखूं, गंगा-जमुना बहे। मुझमें इतनी अकल नहीं आई कि स्नान करके चलूं। ग्यारस माता से...   तीजी खिड़की खोलकर देखूं, घोर अंधेरा होय। मुझमें... आगे पढ़े

देवी राधा और श्रीकृष्ण के विवाह का रहस्य, वो तो कोई और ही थी

Updated on 14 February, 2019, 6:15
राधा-कृष्ण का प्रेम ऐसा है, जिसके बारे में हमारे समाज में बहुत सम्मान के साथ ही बहुत-सी कथाएं भी देखने को मिलती हैं। यह और बात है कि कान्हा के इस देश में प्यार को समझने में समाज ने बहुत वक्त लगा दिया! आज भी यह सवाल उठता रहता है... आगे पढ़े

पुत्र बचाने भगवान बुद्ध के पास पहुंची महिला और तभी…

Updated on 14 February, 2019, 6:00
बात उन दिनों की है जब बोध प्राप्त होने के बाद गौतम बुद्ध आम जनता को दुखों से मुक्ति के उपाय बताते हुए बाकी जीवन गुजारने का फैसला कर चुके थे। उनकी कीर्ति भी फैलने लगी थी। एक बार उनके पास एक स्त्री आई और विलाप करने लगी कि उसके... आगे पढ़े

अगर आप इसलिए मंदिर जाते हैं तो आपका देवदर्शन और पूजन बेकार

Updated on 13 February, 2019, 6:15
भगवान के दरबार में भीड़ दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। हम सभी प्रार्थना की मुद्रा में कहीं न कहीं हाथ जोड़े हुए हैं। आधुनिकता, वैज्ञानिकता और प्रगतिशीलता के साथ प्रार्थना का ऐसा तालमेल शायद ही कभी दिखाई दिया हो। कभी-कभी यह आभास होता है कि लोगों की धर्म और भगवान... आगे पढ़े

सूर्य ने बदली चाल, जानिए अगले 1 महीने कैसा रहेगा आपका हाल

Updated on 13 February, 2019, 6:00
ज्‍योतिषशास्‍त्र में सूर्य को नवग्रहों का राजा माना गया है। वहीं कुंडली में सूर्य को पिता, पूर्वज और सम्‍मान आदि का कारक ग्रह माना जाता है। सूर्य की स्थिति पर जातकों का करियर और मान-सम्‍मान निर्भर करता है। 13 फरवरी, मंगलवार को सूर्य कुंभ राशि में गोचर करेगा। सुबह 08... आगे पढ़े

क्यों मनाते हैं रथ सप्तमी : यहां पढ़ें सूर्य पूजन और अर्घ्य का शुभ मुहूर्त

Updated on 12 February, 2019, 6:00
रथ सप्तमी माघ महीने के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाया जाता है। आमतौर पर रथ सप्तमी का पर्व वसंत पंचमी के दूसरे या तीसरे दिन मनाया जाता है। इस पर्व को सूर्य जयंती, माघ जयंती या माघ सप्तमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु के... आगे पढ़े

कामदेव का यह एक मंत्र बढ़ाएगा 21 दिनों में आपकी आकर्षण शक्ति... पा सकते हैं मनचाहा प्यार

Updated on 11 February, 2019, 6:30
कामदेव की कथा से तो सभी परिचित हैं। कामदेव प्रेम, आकर्षण, काम भावना और प्रबलतम लगाव के देवता हैं। उनके यह दो पौराणिक मंत्र मनचाहा प्यार पाने में सहायक हो सकते हैं। मंत्र के नियमित जाप से आकर्षण शक्ति में वृद्धि होती है।     कामदेव वशीकरण मंत्र .... ‘ॐ कामदेवाय विद्महे, रति... आगे पढ़े

कर्ज से तबाह मत होइए, शर्तिया मिलेगा समाधान, पढ़ें 9 काम की बातें

Updated on 11 February, 2019, 6:30
तीन चीजें कभी-कभी इंसान को तबाह कर देती हैं, वे हैं- कर्ज, बीमारी और मुकदमा चाहें। गरीब हो या अमीर, हम अपनी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए कभी न कभी कर्ज जरूर लेते हैं। आज लगभग सभी व्यक्ति कम या अधिक कर्ज से ग्रस्त हैं। यहां तक कि... आगे पढ़े

क्या आप भी उठ जाते हैं खाते-खाते? बर्बाद कर सकती है यह गलती.. पढ़ें जरूरी जानकारी

Updated on 11 February, 2019, 6:00
हमारे धर्म ग्रंथों में दैनिक जीवन से जुड़े हर काम के लिए कुछ नियम बताए गए हैं। पुराने समय में इन नियमों का पालन करना अनिवार्य माना जाता है, लेकिन बदलते समय के साथ ये नियम भी बदल गए। भोजन से जुड़े कुछ नियम भविष्य पुराण में भी मिलते हैं। भोजन... आगे पढ़े

जानें, सरस्वती माता के मंदिर के बारे में, इस विचित्र वजह से भक्त करने आते हैं दर्शन

Updated on 10 February, 2019, 6:15
बसंत पंचमी पर सरस्वती माता की पूजा का विशेष विधान है। सरस्वती को विद्या की देवी माना जाता है। इसके साथ ही देवी सरस्वती को संगीत की देवी का विशेष दर्जा भी प्राप्त है। आज भी यदि कोई व्यक्ति अच्छा गाता है तो उसे कहा जाता है कि उसके कंठ... आगे पढ़े

हथेली में हैं ऐसी रेखाएं तो शनि कुछ बिगाड़ नहीं पाएगा आपका, रहेगी हनुमानजी की कृपा

Updated on 8 February, 2019, 6:45
हाथ की रेखाओं का विश्‍लेषण करते वक्‍त मंग्रल ग्रह और शनि का जिक्र न हो तो ऐसा संभव नहीं है। हनुमान जी को मंगल का ही दूसरा स्‍वरूप माना जाता है। भगवान राम के परम भक्‍त हनुमानजी ने अपने प्रभु की शक्ति के दम पर ही वानर सेना के साथ... आगे पढ़े

कुरुक्षेत्र के युद्ध में जब जयद्रथ छिप गया तो श्रीकृष्ण ने किया ऐसा कार्य कि वह जाल में फंस गया

Updated on 8 February, 2019, 6:15
आज हम आपको जयद्रथ के वध की अद्भुत कथा बताते हैं। भगवान श्रीकृष्ण की नीति के चलते अर्जुन के पुत्र अभिमन्यु को चक्रव्यूह को भेदने का आदेश दिया गया। यह जानते हुए भी कि अभिमन्यु चक्रव्यूह भेदना तो जानते हैं, लेकिन उससे बाहर निकलना नहीं जानते। दरअसल, अभिमन्यु जब सुभद्रा... आगे पढ़े

पांडवों के सगे मामा शल्य जब दुर्योधन की ओर से लड़े तो की एक चालाकी

Updated on 7 February, 2019, 6:30
रघुवंश के शल्य पांडवों के मामाश्री थे। लेकिन कौरव भी उन्हें मामा मानकर आदर और सम्मान देते थे। पांडु पत्नी माद्री के भाई अर्थात नकुल और सहदेव के सगे मामा शल्य के पास विशाल सेना थी। जब युद्ध की घोषणा हुई तो नकुल और सहदेव को तो यह सौ प्रतिशत... आगे पढ़े

ययाति का यदु कुल को शाप, इसलिए राजवंशियों के द्वारा बहिष्कृत हैं यदुवंशी

Updated on 7 February, 2019, 6:15
मित्रों क्या आपको पता है कि राजा ययाति ने अपने पुत्र यदु को क्या शाप दिया ‍था? इसी यदु के कुल में भगवान कृष्ण का अवतार हुआ था। शाप की कथा शिशुपाल ने धर्मराज युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में सुनाई थी। इक्ष्वाकु वंश के राजा नहुष के छः पुत्र थे- याति,... आगे पढ़े

ये हैं वीणावादिनी मां सरस्वती के चमत्कारिक मंत्र, देंगे ज्ञान, होगी विद्या की प्राप्ति...

Updated on 7 February, 2019, 6:00
संपूर्ण भारत में वसंत पंचमी का उत्सव ज्ञान की देवी 'मां सरस्वती' के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी दृष्टि से वसंत का मौसम शिक्षकों के लिए बहुत मायने रखता है, क्योंकि इस दिन शुभ्रवसना, वीणावादिनी, मंद-मंद मुस्कुराती हंस पर विराजमान मां सरस्वती मानव जीवन में अज्ञान रूप... आगे पढ़े

अगले 45 दिनों तक मंगल और मेष की युति से बनेगा अनिष्ट और भय का वातावरण

Updated on 6 February, 2019, 6:45
पराक्रम के देव मंगल का राशि परिवर्तन दिनांक 5 फरवरी की रात 11 बजकर 47 मिनट पर मीन से स्वयं की राशि मेष में प्रवेश हुआ है। इस स्थिति में मंगल अगले 45 दिनों तक रहेंगे। उल्लेखनीय है कि मेष राशि को मंगल का ग्रहस्थान माना जाता है। अपनी राशि में... आगे पढ़े

यहां लगता है भूतों का मेला, चढ़ता है खुद के वजन का गुड़

Updated on 6 February, 2019, 6:30
मध्यप्रदेश के बैतूल जिले से 42 किमी दूर चिचोली तहसील मुख्यालय से करीब सात किलोमीटर की दूरी पर बसे मलाजपुर गांव में भूतों का मेला लगता है। प्रतिवर्ष मकर संक्रांति के बाद वाली पूर्णिमा को लगने वाला भूतों का यह मेला वसंत पंचमी तक चलता है। दूर-दूर से लोग यहां... आगे पढ़े

कुंभ में विदेशी श्रद्धालु भी हो रहे हैं शामिल, लगा रहे आस्‍था की डुबकी

Updated on 6 February, 2019, 6:15
कुंभ नगर। दुनिया के विशाल धार्मिक आयोजनों में शुमार सनातन धर्मावलम्बियों के ‘कुंभ मेला’ के प्रभाव से पश्चिमी सभ्यता भी अछूती नहीं है।  तीर्थराज प्रयाग में कुंभ के अवसर पर सुदूर क्षेत्रों से विरक्त, गृहस्थ और विदेशी पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलिला स्वरूप में प्रवाहित सरस्वती के त्रिवेणी... आगे पढ़े

श्रीकृष्ण, प्रॉफेट मूसा और ईसा मसीह के बीच समानता जानकर हैरान रह जाएंगे

Updated on 5 February, 2019, 6:30
यहां जो जानकारी दी जा रही है वह शोध का विषय है। जिस तरह भगवान ब्रह्मा और प्रॉफेट अब्राहम, राजा मनु और प्रॉफेट नूह की कहानी में असाधारण रूप से समानता है उसी तरह कृष्ण, मूसा और ईसा मसीह के जीवन में भी समानता है। समानताओं के आधार पर निश्‍चित... आगे पढ़े

प्रभु श्रीराम ने इस राक्षस को क्यों जिंदा गाड़ दिया था, जानिए

Updated on 5 February, 2019, 6:15
विराध दंडकवन का राक्षस था। सीता और लक्ष्मण के साथ राम ने दंडक वन में प्रवेश किया। वहां पर उन्हें ऋषि-मुनियों के अनेक आश्रम दृष्टिगत हुए। राम उन्हीं के आश्रम में रहने लगे। ऋषियों ने उन्हें एक राक्षस के उत्पात की जानकारी दी। राम ने उन्हें निर्भीक किया। वहां से... आगे पढ़े

वसंत पंचमी की सुंदर पौराणिक कथा : जब चतुर्भुज सुंदरी प्रकट हुई मां सरस्वती के रूप में

Updated on 5 February, 2019, 6:00
वसंत को ऋतुओं का राजा कहा जाता है। इस ऋतु में मौसम खूबसूरत हो जाता है। फूल, पत्ते, आकाश, धरती सब पर बहार आ जाती है। सारे पुराने पत्ते झड़ जाते हैं और नए फूल आने लगते हैं। प्रकृति के इस अनोखे दृश्य को देख हर व्यक्ति का मन मोह... आगे पढ़े

रुक्मणि के अलावा श्रीकृष्ण ने उज्जैन की राजकुमारी का भी किया था हरण

Updated on 3 February, 2019, 6:30
मित्रविन्दा और श्रीकृष्ण के विवाह के संबंध में दो कथाएं मिलती है। पहली कथा के अनुसार मित्रविन्दा भी रुक्मणि की तरह मन ही मन श्रीकृष्ण से प्रेम करने लगी थी। उसके भाई विन्द और अनुविन्द उसका विवाह दुर्योधन से करना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने रीति रिवाज के अनुसार स्वयंवर... आगे पढ़े

मायावी राक्षसनी हिडिम्बा को जब हो गया भीम से प्रेम तो मारा गया हिडिम्ब

Updated on 3 February, 2019, 6:15
हिडिम्बा राक्षस जाती की मायावी महिला थी। हिडिम्बा और भीम के संबंध में अलग-अलग कथाएं मिलती है। उन्हीं में से एक कथा यहां प्रस्तुत है। पांचों पांडव लक्षागृह से बचने के बाद एक रात जंगल में सो रहे थे और भीम पहरा दे रहे थे। जिस जंगल में सो रहे थे... आगे पढ़े

इस वर्ष इन 5 प्रकार के लोगों पर रहेगी बहस्पति की विशेष कृपा, जानिए

Updated on 3 February, 2019, 6:00
बृहस्पति को देवताओं का गुरु माना गया है, ज्योतिषशास्त्र के अंतर्गत यह माना जाता कि जिस व्यक्ति की कुंडली में गुरु की स्थिति मजबूत होती है वह बेहद धार्मिक प्रवृत्ति का इंसान होता है और वह चरित्र और स्वभाव से भी उज्जवल होता है। स्त्री की कुंडली में बृहस्पति जीवनसाथी... आगे पढ़े

मौनी अमावस्या को सोमवती अमावस्या का दुर्लभ संयोग 

Updated on 2 February, 2019, 19:15
इस बार मौनी अमावस्या को सोमवती अमावस्या का दुर्लभ संयोग होगा, जो कि लगभग पांच दशक बाद बन रहा है।माघ मास के सर्वप्रमुख स्नान माघी अमावस्या यानी मौनी अमावस्या इस बार चार फरवरी को है। माघ की अमावस्या तिथि तीन फरवरी की रात 11.12 बजे लग रही है, जो चार... आगे पढ़े

काला धागा बना सकता है आपको बहुत धनवान, शनिवार को कर डालें यह उपाय

Updated on 2 February, 2019, 6:30
काला धागा बांधने की प्रथा आज की नहीं है, कई सालों से इसे हाथ, पैर, गले और बाजु में बांधा जाता रहा है। मूल रूप से इसे नजर से बचने के लिए बांधा जाता है.. आइए जानें इसके विषय में विस्तार से... वास्तव में काला धागा बांधने के पीछे वैज्ञानिक कारण... आगे पढ़े

आप नहीं जानते होंगे किंचित दान से संबंधित यह खास जानकारी

Updated on 2 February, 2019, 6:15
किंचिद्दान :- प्रयाग में माधव की प्रसन्नता के लिए, जाने-अनजाने पापों से छुटकारा पाने के लिए हर गृहस्थ को अपनी कमाई के अनुसार कुछ न कुछ दान अवश्य करना चाहिए। इसे किंचिद्दान (किंचित दान) कहा गया है। इसका बहुत महत्व है। प्रयाग में खासतौर से माघ महीने में यह दान... आगे पढ़े

महाभारत के प्रमुख पात्रों का परिचय भाग 1

Updated on 2 February, 2019, 6:00
महाभारत में यूं तो हजारों किरदार हैं, लेकिन यहां प्रस्तुत है उन लोगों का संक्षिप्त परिचय जिनका महाभारत के युद्ध से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से संबंध रहा है। कृष्ण- वसुदेव और देवकी की आठवीं सन्तान और भगवान विष्णु के आठवें अवतार जिन्होंने अपने दुष्ट मामा कंस का वध किया था।... आगे पढ़े