Thursday, 19 July 2018, 6:35 PM

जीवन मंत्र

चाणक्य नीति: इन पांच लोगों के बीच से भूलकर भी न निकलें

Updated on 20 January, 2017, 1:03
आचार्य चाणक्य ने जीवन से जुड़ी कुछ बातों को बताया है। जीवन से जुड़ी इन बातों को जानने से जीवन में आने वाली कई परेसानियों को टाला जा सकता है। नीचे दिए गए श्लोक में आचार्य चाणक्य ने ऐसे लोगों के बारे में बताया है जिनके बीच में से होकर... आगे पढ़े

जब तक मन में हैं ऐसे भाव, उपदेश सुनने का नहीं कोई लाभ

Updated on 17 January, 2017, 9:45
एक भिक्षुक भिक्षा मांगने जाया करते थे। वह जब भी रास्ते में पड़ने वाले एक घर के सामने से गुजरते तो उन्हें एक औरत रोज ही अपनी बहू से झगड़ती मिलती। एक दिन भिक्षुक उसी औरत के घर भिक्षा मांगने पहुंच गए और आवाज लगाई ‘‘भिक्षा दे.. माते.. भिक्षा दे।’’ ––... आगे पढ़े

चाणक्य नीति: किसी शख्स को परखना है तो ध्यान रखें ये 4 बातें

Updated on 17 January, 2017, 0:22
सही इंसान की परख करना आसान काम नहीं है। दरअसल किसी भी इंसान के बारे में सही जानकारी मिलना काफी मुश्किल है। आचार्य चाणक्य ने इस सवाल का जवाब अपने एक श्लोक में दिया है। उन्होंने श्लोमें चार ऐसी बाते बताई हैं जिनसे हम किसी भी इंसान को परख सकते... आगे पढ़े

रामायण से समझें, वैवाहिक जीवन में जन्नत जैसा आनंद लेने के लिए क्या करें

Updated on 16 January, 2017, 9:44
शादी महिला-पुरूष के बीच एक धार्मिक संबंध है। जोकि एक इनायत है जिसमें शुद्धता और निर्मलता आधारित होती है। अध्यात्कमिक ही नहीं वैज्ञानिक सत्य है कि महिला और पुरुष एक दूसरे के बिना अधूरे हैं। दोनों का मिलन ही अधूरापन दूर करता है। शादी की नींव कुछ बातों पर टिकी... आगे पढ़े

जानिए कैसे हुआ लोहड़ी का आरंभ, ये है प्रसिद्ध गीत की कहानी

Updated on 13 January, 2017, 16:27
लोहड़ी का संबंध सुंदरी नामक एक कन्या तथा दुल्ला भट्टी नामक एक डाकू से जोड़ा जाता है। इस संबंध में प्रचलित ऐतिहासिक कथा के अनुसार गंजीबार क्षेत्र में एक ब्राह्मण रहता था जिसकी सुंदरी नामक एक कन्या थी जो अपने नाम की भांति बहुत सुंदर थी। वह इतनी रूपवान थी... आगे पढ़े

आश्चर्यचकित रह जाएंगे बरगद के धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व को जानकर

Updated on 13 January, 2017, 0:40
हिंदू धर्म इतना सहिष्णु माना गया है कि वह प्रकृति तक से कृतज्ञता ज्ञापित करता है। सूर्य, चंद्र, वायु, जल, पृथ्वी जो भी कुछ देता है उसे देवता तुल्य माना गया है। इसी प्रकार कई पौधे-वृक्ष ऐसे हैं जिनका धार्मिक महत्व तो है ही, साथ ही उसका वैज्ञानिक आधार भी... आगे पढ़े

शास्त्रों से जानें, हमारा देश ‘भारतवर्ष’ के नाम से क्यों जाना जाता है

Updated on 7 January, 2017, 20:29
पुरुवंश में अनेक राजर्षि हुए हैं। राजा दुष्यंत भी इन्हीं के वंशज थे। एक बार राजा दुष्यंत शिकार खेलने निकले तो कण्व ऋषि के आश्रम में पहुंच गए। वहां उन्होंने एक बहुत ही सुंदर कन्या को देखा। राजा दुष्यंत उस सुंदरी को देखकर उस पर अत्यंत मोहित हो गए। उस... आगे पढ़े

रातों-रात कामयाबी चूमेगी कदम, बस होना चाहिए आप में ये 1 गुण

Updated on 7 January, 2017, 20:26
आज के जमाने में बहुत कम लोगों में ही सच्ची लगन दिखाई देती है। आधुनिक युग में सभी लोग सब कुछ फटाफट चाहते हैं। अक्सर हमें अखबारों, टी.वी. में ऐसी खबरें पढऩे और सुनने को मिलती हैं कि रातों-रात कामयाबी ने कई लोगों के कदम चूमे। ऐसी खबरें देखकर और... आगे पढ़े

भक्त के बुलाने पर आते हैं भगवान, सिर्फ पहचानने की है देर

Updated on 31 December, 2016, 8:01
एक बार एक तीर्थिक ब्राह्मण नाना तीर्थ भ्रमण करते-करते दैवयोग से श्रीचैतन्य महाप्रभु जी के पिताजी, श्रीजगन्नाथ मिश्रजी के घर आए। वह हमेशा आठ अक्षरों वाले गोपाल मन्त्र से गोपालजी की उपासना करते थे तथा जो भी मिलता उसे गोपालजी को भोग लगाकर ही प्रसाद ग्रहण करते थे।   ब्राह्मण को आया... आगे पढ़े

ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करने के होते हैं ये फायदे

Updated on 30 December, 2016, 12:03
हमारे शरीर में समस्त देवी-देवताओं का निवास होता है। शरीर में मौजूद सात चक्र इसकी पुष्टि भी करते हैं। इसलिए हर स्वस्थ मनुष्य को रोज स्नान करना चाहिए। अगर आप सुबह-सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठते है तो आपको सौन्दर्य, बल, विद्या और स्वास्थ्य प्राप्त होता है। सुबह-सुबह नहाने से बीमारियां... आगे पढ़े

जब भोले बाबा श्रीराम का दर्शन पाने के लिए बनें मदारी, जानें आगे क्या हुआ

Updated on 29 December, 2016, 13:16
श्रीराम का जन्म अयोध्या नगरी में होने के बाद भगवान शंकर उनकी बाल-लीलाओं का दर्शन करने के लिए अयोध्या आते और चले जाते। कभी-कभी अयोध्या में रूक भी जाते। श्रीराम के दर्शनों की अभिलाषा से कभी उन्हें ज्योतिषी तथा कभी भिक्षुक बनना पड़ता। एक बार भोलेनाथ श्रीराम के महल में... आगे पढ़े

बच्चों को दें ऐसा ज्ञान, नहीं तो जीवन में रहेगा संस्कार और शिष्टाचार का अभाव

Updated on 29 December, 2016, 13:13
टीचर क्लास में बच्चों को पढ़ा रहे थे कि अच्छे संस्कार और शिष्टाचार का जीवन में क्या महत्व है? उदाहरण के लिए उन्होंने एक शीशे का जार लिया और उसमें कुछ गेंद डालने लगे। धीरे-धीरे जार पूरा भर गया। उसके बाद उन्होंने कुछ कंकर मंगवाए और उन्हें भी जार में... आगे पढ़े

इनको देखने से न केवल इस लोक, परलोक और अगले जन्म में भी भोगना पड़ता है दुख

Updated on 18 December, 2016, 0:04
वेदमार्ग का दसवां पुराण है ब्रह्मवैवर्त पुराण। इस पुराण को चार खण्डों में विभाजित किया गया हैं।  जिसमें श्री कृष्ण की लीलाओं का विस्तार से वर्णन किया गया है। इसके अतिरिक्त इसमें आख्यानों एवं स्तोत्रों का बहुत सुंदर संग्रह है। इस पुराण के अनुसार गलत काम करने से ही पाप... आगे पढ़े

जानिए, बैल से संबंधित रहस्यमयी बातें जो कम ही लोग जानते हैं

Updated on 15 December, 2016, 19:33
सम्पूर्ण मानव जाति की उत्त्पत्ति का स्रोत एक ही है और सभी उसी एक में मिल जाएंगे अर्थात हमारा आदि और अंत एक ही है। हम सभी के देव और देवी भी एक ही हैं और कुछ पूजनीय जीव भी जैसे कि सर्प, गाय आदि। गाय और गौवंश में कुछ... आगे पढ़े

नहाने से मिलता है आध्यात्म‍िक लाभ, जानें जबरदस्त फायदे

Updated on 9 December, 2016, 17:19
स्नान यानि शरीर को शुद्ध करने की एक क्रिया, जिसके उपरांत व्यक्ति का तन रोगों से मुक्त रहता है और मन प्रफुल्लित होता है। नहाने के उपरांत चेहरे पर चमक आती है और शरीर पर गजब का विकर्षण सुंदरता में चार चांद लगाता है। प्रतिदिन किए जाने वाले इस कर्म... आगे पढ़े

निंदकों और आलोचकों से बचने का आसान उपाय

Updated on 2 December, 2016, 21:21
रबींद्र नाथ टैगोर विचारक ही नहीं बल्कि शांत साधक थे। वह भयमुक्त थे। उनका स्वभाव शांत था। वह काफी कम बात किया करते थे। कुछ लोग रबींद्र नाथ टैगोर जी की निंदा करते थे। एक बार शरत बाबू ने टैगोर से कहा, ‘‘मुझे आपकी निंदा सुनी नहीं जाती। आप अपनी... आगे पढ़े

बापू कहते थे, जब कोई लड़का छेड़े तो उठाएं ये कदम

Updated on 29 November, 2016, 16:12
गुजरात में महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम में लड़कियां भी रहती थीं। एक दिन की बात है कुछ लड़कियां कहीं से लौट रही थीं। रास्ते में कुछ लड़के उनको छेडऩे लगे। लड़कियां इस घटना से घबरा गईं और दौड़ते हुए आश्रम पहुंचीं। उन्होंने सारी घटना का जिक्र बापू से किया। बापू... आगे पढ़े

प्रणाम करने का है खास तरीका, उठाएं जा सकते हैं ढेरों लाभ

Updated on 29 November, 2016, 16:11
धर्मपरायण भारतीयों की सांस-सांस में शुभ संस्कारों की भावभीनी सुगंध रची-बसी है। ऐसी क्रियाओं में सर्वप्रथम उल्लेखनीय है- प्रणाम। इस छोटी सी क्रिया के प्रयोगजनित प्रणाम अमित और अमिट हैं। जीवन रूपी क्षेत्र में आशीर्वादों का अन्न उगाने का यह बीज मंत्र है। सामाजिक शिष्टाचार एवं पारस्परिक स्नेह संचार की... आगे पढ़े

संसार में सबसे सुखी बनना चाहते हैं तो पढ़ें ये कहानी

Updated on 26 November, 2016, 0:02
महाभारत में एक प्रसंग आता है, कि एक बार पांच पांडव वन में भटक गये। भटकते-भटकते उन्हें प्यास लगी। ज्यादा थकावट के कारण सभी एक स्थान पर बैठ गए। युधिष्ठिर महाराज जी ने पहले नकुल, फिर सहदेव, फिर अर्जुन और अंत में भीम को भेजा जल की खोज में। जब काफी... आगे पढ़े

सुबह बिस्तर छोड़ते समय करें ये काम, बनेंगे ईश्वरीय शक्तियों और अक्षय धन के हकदार

Updated on 25 November, 2016, 0:51
जीवनचर्या/दिनचर्या का आरंभ सूर्योदय से होता है। सूर्य प्रत्यक्ष ब्रह्ममूर्त है। सूर्य सृष्टि के आत्मा ग्रह है। चन्द्रमा सृष्टि में मन का कारक है। पृथ्वी सृष्टि में सभी प्राणियों की जननी है। यह सृष्टि जिससे उत्पन्न हुई जिससे पलती है पोषित होती है जिससे इसका संहार होता है, इन तीनों... आगे पढ़े

सुख से वैभव संपन्न जीवन जीने की चाह है तो अवश्य पढ़ें...

Updated on 10 November, 2016, 6:57
दुनिया का रंग-ढंग देखकर एक संन्यासी के मन में विशाल आश्रम बनाने का जुनून सवार हो गया। आर्किटैक्ट को बुलाकर उसका नक्शा तैयार करवाया और इस बात की खासतौर पर हिदायत दी कि पूरा आश्रम सुख-सुविधा से सम्पन्न होना चाहिए। उसकी भव्यता का कोई मुकाबला न कर सके और देश-विदेश... आगे पढ़े

गिफ्ट में मिला ये सामान कर सकता है आय में वृद्धि

Updated on 9 November, 2016, 8:05
गिफ्ट एक ऐसी वस्तु है, जो शुभ अवसर पर मंगलकामनाओं के साथ अपने प्रियजन को दी जाती है। जब किसी को तोहफा देने का वक्त आता है तो समझ नहीं आता कि क्या दिया जाए, जो लेने वाले का दिल मोह ले। कुछ ऐसी वस्तुएं होती हैं जो वास्तु, ज्योतिष... आगे पढ़े

पुरुषों की कुछ इच्छाएं कभी परवान नहीं चढ़ती, जीवनकाल में कभी नहीं भोग सकते ये सुख

Updated on 9 November, 2016, 8:04
श्रीरामायण में श्रीहरि विष्णु के अवतार भगवान राम और उनके कुल का संपूर्ण जीवन वृतांत अंकित है। जिसमें विभिन्न प्रसंगों के माध्यम से आम जनमानस के लिए बहुत सारे संदेश दिए गए हैं। जिन्हें अपनाकर जीवन में सुख और वैभव पाया जा सकता है। रामायण के अरण्य कांड में एक... आगे पढ़े

पवित्र नदियों में स्नान के हैं अनेक लाभ, जानकर स्वयं को डूबकी लगाने से रोक नहीं पाएंगे

Updated on 9 November, 2016, 8:03
गंगा, क्षिप्रा, सिंधु हो या ब्रह्मपुत्र, गोदावरी, यमुना भारतीयों में स्नान करना संस्कारगत है। ये संस्कार युगों से चले आ रहे हैं। अनेकों राजनीतिक सत्ताएं आईं लेकिन भारतीयों को पवित्र नदियों, सरोवरों में स्नान करने की परंपरा को खंडित न कर सकीं। अंग्रेजों ने इसे अंधविश्वास कहा और इसकी आलोचनाएं... आगे पढ़े

सुबह-सुबह दोस्ती करें इन 5 आदतों से, दिन की होगी अच्छी शुरुआत

Updated on 8 November, 2016, 0:03
सुबह-सुबह कई चीजों के बारे में सोचकर अधिकतर लोग तनाव में रहते हैं। सुबह सवेरे हम सभी को काफी काम होता है, लेकिन इसे इग्नोर करते हुए हमें कुछ ऐसी आदतों को अपने रूटीन में शामिल करना चाहिए जिससे हम अपनी लाइफ में तनाव को कम कर इसे इंप्रूव कर सकते... आगे पढ़े

ये हैं वो 10 नियम जिन्हें जाने बिना कभी सफल नहीं हो पाएंगे आप

Updated on 26 October, 2016, 8:30
ऐसे असफलता को छोड़े पीछे.. कई बार ऐसा होता है कि आप खूब मेहनत करते हैं, जी-जान लगाकर अपना काम भी करते हैं लेकिन सफलता आपसे दूर-दूर ही रहती है। अक्सर आप सोचने लगते हैं कि आपकी असफलता का मुख्य कारण आपका भाग्य है? अगर आप भी ऐसा ही सोचने पर... आगे पढ़े

क्या आपके रिश्ते में कड़वाहट, तो करें ये काम!

Updated on 3 August, 2016, 10:10
अगर आप रिश्तों में बुरे दौर से गुजर रहे हैं, तो भविष्य के बारे में सोचना आपके रिश्ते में गरमाहट ला सकता है. क्योंकि यह उलझनों से उबरने में मदद करता है और जीवन में सकारात्मकता लाता है. हालिया अध्ययन में यह बात सामने आई है.   वाटरलू यूनिवर्सिटी में अनुसंधान करने... आगे पढ़े

अद्भुत था ये दार्शनिक, 8 साल की उम्र में कंठस्‍थ थे वेद, 32 की उम्र तक रच दिए कई ग्रंथ

Updated on 11 May, 2016, 1:46
''ज्ञान की पंथ कृपाण की धारा'', यानी की ज्ञान को प्राप्‍त करना दोधारी तलवार पर चलने के समान है। भारतीय संस्कृति और समाज के सर्वाधिक लोकप्रिय, और जनमानस के मन में अपने हर शब्‍द से खास जगह बनाने वाले, गोस्वामी तुलसीदास जी द्वारा रामचरित् मानस में लिखी यह चौपाई सर्वकालिक... आगे पढ़े

बच्चों के साथ संबंध सुधार कर डिप्रेशन से किया जा सकता है बचाव!

Updated on 9 May, 2016, 23:20
न्यूयॉर्क। अगर मांएं अवसाद से पीड़ित रहती हैं, तो उनके अपने बच्चों के साथ व्यवहार भी कड़वाहट भरा होता है। बच्चों के साथ संबंध में सुधार लाकर ही अवसाद से बचा जा सकता है। एक शोध में यह पता चला है। शोध के निष्कर्षों से पता चला है कि बच्चों... आगे पढ़े

ऐसे छुड़ाएं बच्चों की ज्यादा टीवी देखने की आदत

Updated on 25 April, 2016, 9:05
नई दिल्ली। बच्चों की सही आदतें सिखाना आजकल के वक्त में सबसे बड़ी चुनौती हैं। आजकल अक्सर घरों में माता-पिता दोनों ही काम करते हैं, ऐसे में बच्चों के साथ गुजराने के लिए थोड़ा ही वक्त मिलता हैं। ऐसे हालात में बच्चों का सहारा बनता है टीवी, लेकिन ज्यादा टीवी... आगे पढ़े

सुखी रहने का सफल मंत्र

Updated on 31 March, 2016, 11:15
ओशो दुख पर ध्यान दोगे तो हमेशा दुखी रहोगे, सुख पर ध्यान देना शुरू करो। दरअसल, तुम जिस पर ध्यान देते हो वह चीज सक्रिय हो जाती है। ध्यान सबसे बड़ी कुंजी है। दुख को त्यागो। लगता है कि तुम दुख में मजा लेने वाले हो, तुम्हें कष्ट से प्रेम है।... आगे पढ़े

तनाव में है तो किसी की मदद करने से बेहतर महसूस होगा!

Updated on 15 December, 2015, 11:11
न्यूयॉर्क। अपने दोस्तों, परिचितों और यहां तक कि अनजान लोगों की भी मदद करना रोजमर्रा के तनाव के कारण हमारी भावनाओं और मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को कम कर सकता है। एक सर्वे में यह दावा किया गया है। अमेरिका के येल यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ता एमिली... आगे पढ़े

मरते वक्त मुंह में तुलसी, गंगाजल और मुसलमान आबे जमजम रखते हैं

Updated on 8 December, 2015, 19:49
कहते हैं क‌ि ज‌िस द‌िन जीव का जन्म होता है यमराज उसी द‌िन से उसके पीछे लगे रहते हैं और जैसे ही मौत का समय आता है उसे अपने साथ लेकर इस द‌ुन‌िया से चले जाते हैं। इसल‌िए ज‌िसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु न‌िश्च‌ित है। लेक‌िन मृत्यु के बाद... आगे पढ़े

प्रेम भीड़ में नहीं होता, उसे एकांत चाहिए: आचार्य शिवेंद्र नागर

Updated on 6 December, 2015, 15:42
एकांत में बैठना श्रेष्ठ व्यक्तियों का महत्वपूर्ण गुण हैं। जितना संसार अथवा अध्यात्म में आप ऊपर जाएंगे उतना अकेले होते जाएंगे। आपके आस-पास लोग तो होंगे किंतु वे आपके पीछे चलेंगे, साथ नहीं चल पाएंगे। श्रेष्ठ व्यक्ति हमेशा अकेला रहता है। भीड़ से अलग। लोगों के बीच में भी वह लोगों... आगे पढ़े

यह दो काम नहीं करने वाले का धन नाश होता है

Updated on 5 December, 2015, 14:14
अगर आप चाहते हैं क‌ि आपका धन बढ़े और आप सुख पूर्वक जीवन जीएं तो हमेशा यह दो बातें याद रखें क्योंक‌ि जो इन्हें याद नहीं रखते हैं और अपने धन को बचाने की कोश‌िश करते रहते हैं उनका धन क‌िसी न क‌िसी रूप में नाश हो जाता है और... आगे पढ़े

तनाव को झट दूर करेंगे ये 7 उपाय, पढ़ें कौन से है वो उपाय

Updated on 1 December, 2015, 13:53
तनाव के वजह से कई अन्य तरह की बीमारियां हो जाती हैं। जानिए कुछ आसान आदतें जो तनाव को झट से दूर कर सकती हैं। इसके लिए एक उपाय जो कारगर है वो है गहरी सांस लेना। एक जगह पर बैठकर धीरे-धीरे सांस अंदर ले और 5 सेकेंड के लिए... आगे पढ़े

तुरंत बदल दें ये 10 आदतें, इनसे धीरे धीरे क्षतिग्रस्त हो रहा है दिमाग

Updated on 1 December, 2015, 13:53
आपको जानकर हैरानी होगी कि कुछ आदतें इतनी घातक हैं जो आपके दिमाग को सुस्त बना रही हैं। इसमें कोई दो राय नहीं है कि तनाव हम सब के जीवन का एक हिस्सा बन गया है। जो दिमाग को धीरे-धीरे कुंद बना देता है। तनाव के अलावा और कई आदतें... आगे पढ़े

अवश्य फल देते कर्म

Updated on 5 November, 2015, 7:47
कर्मफल एक अटल सत्य है. क्रिया की प्रतिक्रिया सुनिश्चित है. जो किया गया है, उसका भुगतान आज नहीं कल अवश्य ही करना होता है. हां, ऐसा हो सकता है कि कुछ कर्म देर से फल देते हैं, और कुछ तत्काल. शराब, गांजा के सेवन करते ही नशा चढ़ता है. विषपान... आगे पढ़े

काम के दौरान तनाव से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय!

Updated on 25 October, 2015, 23:05
नई दिल्ली। तनाव से बचने के लिए अपने दफ्तर में काम करने के दौरान थोड़ी-थोड़ी देर बाद ब्रेक लेते रहें। यानी थोड़ा टहलें और हल्का नाश्ता और चाय या कॉफी लें, फिर काम में लगें। ऐसा आठ घंटे के दौरान दो या तीन बार करें। तनाव आपके पास नहीं आएगा।... आगे पढ़े

3 मिनट मेडिटेशन से पूरे दिन की ताजगी

Updated on 5 October, 2015, 10:51
भागदौड़ के इस जमाने में सेहत कहीं पीछे छूटती जा रही है। स्टूडेंट्स से लेकर युवा तक सभी तनाव की चपेट में हैं। सभी इससे निजात पाना चाहते हैं। ऐसे अगर कोई कहे कि महज 3 मिनट में पूरे दिन के लिए ताजगी मिल सकती है तो शायद आपको यकीन... आगे पढ़े

आपके पास है ऐसा बल जो बना सकता है आपको महान

Updated on 5 September, 2015, 20:31
गौतम बुद्ध एक बार अपने अनुयायियों को प्रवचन दे रहे थे तब उन्होंने विराट नगर के राजा सुकीर्ति की कथा सुनाई। वह कहते हैं कि राजा सुकीर्ति के पास लौहशांग नामक एक हाथी था, जिसके जरिए राजा ने कई युद्धों में विजय पाई थी। युद्ध कला में प्रवीण लौहशांग जब... आगे पढ़े

अपने आत्मविश्वास से जुड़ें ... ये हैं 10 आसान रास्ते

Updated on 4 September, 2015, 20:05
जिंदगी में कामयाब होने के लिए सबसे जरूरी यदि कुछ है तो वह है आपका आत्मविश्वास... आपने अलग-अलग फील्ड के कामयाब लोगों से बात करते हुए पाया होगा कि उनका आत्मविश्वास कमाल का है। यही आत्मविश्वास उन्हें आगे बढ़ने और कुछ करने की प्रेरणा देता रहता है। इसलिए जरूरी है... आगे पढ़े

बच्चों की ऊर्जा शक्ति को विकसित करने की आवश्यकता है

Updated on 31 August, 2015, 12:37
नेपोलियन बोनापार्ट के जीवन को समझें। उसने अपनी ऊर्जा शक्ति स्वयं विकसित की। जब वह ऐसा कर सकता है तो आप क्यों नहीं? इसलिए आप अपने नाम के पहले जितने भी अलंकार, पद व पुरस्कारों के नाम लगाना चाहें, लगा लें, ताकि आपको यह याद रहे कि आप इतने अलंकारों... आगे पढ़े

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

Updated on 31 August, 2015, 9:32
दूसरों की प्रसिद्धि से हतोत्साहित होने के बजाय कुछ पाने की तरफ कदम बढ़ाएं। भले ही छोटी सफलता मिले लेकिन वह आपको बड़ी खुशी देगी। कभी-कभी जीवन में बहुत खालीपन का एहसास होता है। आप उत्तर ढूंढने की कोशिश करते हैं कि आखिर यह खालीपन क्यों है। अपने जॉब को लेकर... आगे पढ़े

दोस्तों को इन पैमानों पर परखें

Updated on 31 August, 2015, 9:31
मित्र की मदद से हमारा जीवन आगे बढ़ना चाहिए, दोषों पर नियंत्रण होना चाहिए। मित्रों के चयन से पहले से कुछ पैमानों पर विचार करने से हम बेहतर मित्र बना सकते हैं। हमारे जीवन पर मित्रों का गहरा प्रभाव रहता है। वे हमारे व्यवहार और विचार को प्रभावित करते हैं। कई... आगे पढ़े

तो यह है जीवन का परमआनंद

Updated on 30 August, 2015, 9:09
हमारे धर्म ग्रंथों में अमूमन इस बात का उल्लेख मिलता है कि ईश्वर की शरण में जाने से मनुष्य को परम आनंद की प्राप्ति होती है। आखिर ये परम आनंद क्या है? ये कहां मिलता है? एक आम आदमी को इन दोनों प्रश्नों का उत्तर कभी नहीं मिल पाता और इसीलिए... आगे पढ़े

वर्तमान का आनंद उठाएं, भविष्य आनंदमय होगा

Updated on 30 August, 2015, 9:08
जर्मन मूल के आध्यात्मिक गुरु एक्हार्ट टाल का चिंतन कहता है, वर्तमान में होने वाली घटनाओं पर प्रतिक्रिया देने की बजाए उसे सहज भाव से स्वीकार लेना ही हमारे जीवन को आनंदमय बना देता है। अतीत और भविष्य को छोड़ वर्तमान के साथ चलकर यह सुख हर व्यक्ति पा सकता... आगे पढ़े

निर्लिप्तता का अर्थ है सांसारिक मायामोह से दूर रहना

Updated on 28 August, 2015, 9:26
 निर्लिप्तता का अर्थ है सांसारिक मायामोह से दूर रहना। यह कर्म के बंधन से निवृत्ति भी है। गीता में एक अपूर्व युक्ति बताई गई है, जिससे मनुष्य शुद्ध, पवित्र, निर्लिप्त या निष्कलंक बन सकता है। यह युक्ति है कर्र्मो को ब्रह्म में अर्पण करना यानी सब कर्म परमेश्वर को समर्पित... आगे पढ़े

जीवन जीने के दो ढंग

Updated on 28 August, 2015, 9:22
हमारी चेतना पर जब विचारों का बहुत बोझ होता है, मन में ऊहापोह होती है, तो समझें कि चेतना कैद हो गई है, उस पर ताला लग गया है। इस कैद से परे जाने पर ही आनंद मिल सकता है। जीवन जीने के दो ढंग हैं- एक ढंग है चिंतन का,... आगे पढ़े

बंधन नहीं मुक्ति का परिचय है धर्म

Updated on 28 August, 2015, 9:21
हम सभी अपने धर्मों को श्रेष्ठ साबित करना चाहते हैं। हम दूसरे धर्मों की खूबियों के प्रति आंख मूंदे रहते हैं। सच्ची धार्मिकता तो तमाम तरह के बंधनों से मुक्त होने में ही है। यह जीवन, यह अस्तित्व, यह दुनिया एक है, लेकिन हमारा मन इसे खंडों में बांट देता है... आगे पढ़े