Tuesday, 23 January 2018, 3:04 AM

मेरी सहेली

गाय के दूध से ठीक होगा पेट का कैंसर

Updated on 17 January, 2015, 15:57
दूध के दीवानों के लिए एक अच्छी खबर है। एक ताजा रिसर्च में वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि गाय के दूध में एक ऐसा पेप्टाइड होता है जो मनुष्य के पेट के कैंसर सेल को मारने में सक्षम है। ताइवान में किए गए इस शोध में वैज्ञानिकों ने गाय... आगे पढ़े

सर्दी-खांसी ही नहीं कैंसर में भी हल्दी है कारगर

Updated on 17 January, 2015, 15:51
 हल्दी के औषधीय गुणों के बारे में यूं तो सभी जानते हैं। सर्दी, खांसी, चोट, कटने पर हल्दी बड़ा ही कारगर औषधी है, लेकिन अब हल्दी के एक और गुण के बारे में पता चला है। कोलकाता के चिकित्सक व विशेषज्ञों ने इस खोज निकाला है। पता लगा है कि... आगे पढ़े

जानिए कैसे 10 मिनट में हो सकते है फिट

Updated on 17 January, 2015, 15:49
कुछ लोगों की यह धारणा है कि चुस्त-दुरुस्त रहने के लिए हर दिन घंटों पसीना बहाना पड़ता है, लेकिन हाल ही में जर्मनी में हुए शोधों से पता चला है कि यह धारणा सही नहीं है। इस शोध के मुताबिक 10 मिनट का व्यायाम भी आपको तरोताजा बनाये रखने के... आगे पढ़े

इस तकरार में है दोनों की हार

Updated on 17 January, 2015, 15:47
रुपया-पैसा, नौकरी, सास-ससुर, बच्चा न होना या विवाहेतर संबंध.., वे कौन से कारण हैं जो विवाहित जीवन में सेंध लगा कर उसकी खुशियां चुरा लेते हैं? आश्चर्यजनक रूप से इनमें से कोई भी समस्या इतनी गंभीर नहीं जितनी नैगिंग की समस्या। बार-बार टोकने व तंग करने की यह आदत एक सीमा... आगे पढ़े

चलते रहो कहती है जिंदगी

Updated on 17 January, 2015, 15:44
एक अध्ययन कहता है कि भारत में टीनएजर्स की आत्महत्या के मामले बहुत बढ़ रहे हैं। यहा तक कि वह विश्व में नंबर दो पर है। आखिर वे कौन सी वजहें हैं जो युवा सपनों को खिलने से पहले ही मुरझाने पर विवश कर रही हैं? युवा ऐसे कदम न... आगे पढ़े

जंक फूड से बच्चों को रखें दूर

Updated on 17 January, 2015, 15:41
कल शॉपिंग माल में एक पुरानी सहेली कनिका वर्मा से मुलाकात हुई। बातों ही बातों में पता चला कि मेरी तरह पहले वह भी परेशान रहती थी, क्योंकि उसके बच्चे भी ढंग से खाना नहीं खाते थे। उसके बच्चों को भी इधर-ऊधर की चीजें खाने में मजा आता था। घर... आगे पढ़े

बच्चा सब्जी नहीं खाता, तो ये फंडे आजमाएं

Updated on 17 January, 2015, 15:39
  बच्चा सब्जी नहीं खाता, तो ये फंडे आजमाएं By Kahi Suni, 9 July, 2013, 13:13   किसी भी बच्चे की ममी से पूछिए, तो उनकी पहली शिकायत यही होती है कि क्या करें बच्चा सब्जी ही नहीं खाता। हर रोज स्कूल टिफिन में नया क्या पैक करें, अब तो यह भी समझ में... आगे पढ़े

प्यार का जहां कुछ ऐसे बसाएं

Updated on 17 January, 2015, 15:37
शादी जीवन का नया सफर है। जिस तरह हर नए सफर से पहले उत्साह, उमंग, खुशी,  बेचैनी, हडबडाहट और अंजान सा भय छिपा होता है, उसी तरह शादी से पहले भी घबराहट, बेचैनी, एडजस्टमेंट की चिंताएं सताती हैं। शादी जीवन में बडा बदलाव लाती है, क्योंकि यहां से जीवन का... आगे पढ़े

सपने देखो साहस करो..

Updated on 16 January, 2015, 15:16
उनके पास वह सब कुछ है, जिन्हें पाकर वे खुशी-खुशी जिंदगी गुजार सकती हैं, पर उनके लिए असली खुशी है, अपने सपनों के लिए संघर्ष करना। लीक से अलग हटकर ऐसी राह बनाना, जिसमें चुनौती हो, जोखिम हो..। व‌र्ल्ड माउंटेन डे पर मिलिए देश की ऐसी ही महिलाओं से, जिन्होंने... आगे पढ़े

करियर को दें नई उड़ान

Updated on 16 January, 2015, 15:13
यदि आप युवावस्था की दहलीज पर दस्तक दे रही हैं तो यह तय मानें कि अब आपकी जिंदगी व करियर के सर्वाधिक महत्वपूर्ण साल शुरू होने वाले हैं। करियर काउंसलर भी इस बात से सहमत हैं। इस संदर्भ में करियर काउंसलर विनम्रता सिन्हा कहती हैं, इस उम्र में ही नवयुवतियों... आगे पढ़े

जीने का फलसफा भी सिखाता है गुलाब

Updated on 16 January, 2015, 15:11
 'कांटों में भी खिलकर मुस्कुराता है गुलाब, जीने की कुछ ऐसी अदा सिखाता है गुलाब' कुछ ऐसा ही है गुलाब का अंदाज। कांटों में खिलकर और तमाम पहरेदारों से घिरकर खिला गुलाब महज एक फूल ही नहीं है बल्कि यह एक ऐसा प्रेरणादायक फूल है जो लोगों को कष्ट सहकर... आगे पढ़े

दिल तो बच्चा है!

Updated on 16 January, 2015, 15:05
रोजमर्रा के जीवन में हमारे मन की बहुत बड़ी भूमिका होती है। चूंकि मन चंचल होता है, इसलिए कभी किसी चीज के लिए वह बच्चों की तरह मचल जाता है, तो कभी कुछ करने का मन ही नहीं होता। कैसे साधें मन को, बता रहे हैं अरुण श्रीवास्तव.. वह रविवार की... आगे पढ़े

दिल हारे दिमाग नहीं

Updated on 16 January, 2015, 15:00
काफी दूर तक सोच लेते हैं लड़के। क्या प्यार इतना आसान है कि देखते ही कह दिया, आई लव यू.. लड़कों के लिए सब कुछ इतना आसान कैसे होता है? 19 वर्षीय हर्षिता अपनी पहली डेट के अनुभव बता रही हैं। छह महीने पहले उनके एक हैंडसम बैचमेट ने उनके साथ... आगे पढ़े

गुस्सा करना छोड़ दिया

Updated on 16 January, 2015, 14:56
शादी के दो-तीन महीने बाद ही मुझे पता चला कि बात-बात पर गुस्सा होना इनकी आदत में शुमार है। हर बात पर गुस्सा होना और कमियां निकालना इनकी आदत थी। एक दिन यह देर रात घर आए तो मैंने इनसे देर से आने का कारण पूछा। इस पर यह गुस्से... आगे पढ़े

वीरानगी बचपन की

Updated on 16 January, 2015, 14:53
तब मैं इस दफ्तर में नई-नई आई थी। राजबीर मेरे साथ वाली कुर्सी पर बैठता था। मैं सारा काम उसी से समझती थी, आरंभ में डरती-झिझकती हुई, फिर निडर होकर। धीरे-धीरे वह मुझे अच्छा लगने लगा, कुछ अपना-अपना सा। एक दिन बोला, मीता, एक बात कहूं, बुरा तो नहीं मानोगी? कहिए, आपकी... आगे पढ़े

समय के साथ चलें

Updated on 16 January, 2015, 14:40
समय के बारे में यह कहावत प्रचलित है कि समय सबसे बलवान होता है। समय सूचक यंत्र घड़ी का हमारे जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है और इसीलिए घड़ी का वास्तुशास्त्र से भी बहुत गहरा संबंध है। अत: घर के भीतर घड़ियों को हमेशा वास्तु केअनुकूल दिशा में रखना चाहिए। इससे... आगे पढ़े

भरोसा मुकम्मल हो तभी शादी करें

Updated on 16 January, 2015, 14:38
राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) से उत्तीर्ण जाकिर हुसैन मेरठ के हैं। सरिता से इनकी मुलाकात दिल्ली में एनएसडी के दिनों में हुई। करीब 10 वर्ष तक लगातार साथ काम करने के बाद दोस्ती हुई। फिर लगा कि हमारे बीच इतनी समझदारी हो गई है कि शादी की जा सकती है।... आगे पढ़े

प्यार के आगे हारी विकलांगता, खत्म हुआ 16 साल का इंतजार

Updated on 16 January, 2015, 14:33
इंदौर। प्यार सिर्फ खूबसूरती और शारीरिक सक्षमता का मोहताज नहीं। यह दो दिलों का मिलन है। इस बात को शहर के एक जोड़े ने सच साबित कर दिया। शनिवार को एक युवती ने व्हीलचेयर पर जिंदगी बिताने वाले लड़के के साथ विवाह कर अपने 16 साल के प्रेम को मुकाम... आगे पढ़े

संकल्प के साथ

Updated on 16 January, 2015, 14:30
संकल्प छोटा हो या बड़ा, उसे निभाने के लिए दृढ़ता की जरूरत होती है। लक्ष्य चाहे जैसे भी हों, अगर दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ सही दिशा में ईमानदारी से मेहनत करें, तो मंजिल मुश्किल नहीं। कैसे हासिल करें यह दृढ़ता, बता रहे हैं अरुण श्रीवास्तव.. एक बार एक संत की ख्याति... आगे पढ़े

क्या शक है सबसे बड़ा दुश्मन?

Updated on 16 January, 2015, 14:27
जहां से विश्वास टूटता है, वहीं से शक की शुरुआत होती है। यह सही है कि सभी पर आंखें मूंदकर विश्वास नहीं किया जा सकता, लेकिन जब कोई अपने करीबी लोगों या छोटी-छोटी बातों पर शक करने लगे तो यह स्थिति उसके लिए ठीक नहीं है। इसलिए जहां तक संभव... आगे पढ़े

जानिए, कैसे रहें शादी के बाद खुश

Updated on 16 January, 2015, 14:25
प्यार नितांत निजी भाव है और हर व्यक्ति पूरी तरह से स्वतंत्र है कि वह किससे भावनात्मक तौर पर जुड़े'.. परंतु जब 'प्यार' को 'शादी' में ट्रांसलेट करने का प्रयास किया जाता है तो ढेरों वर्जनाएं, नियम, शर्ते और अपेक्षाएं सामने आती हैं, क्योंकि 'शादी' तो पारिवारिक और सामाजिक स्वीकृति... आगे पढ़े

अकेले नहीं, सब साथ मिलकर चलें, यही है 'साथ का दम'

Updated on 16 January, 2015, 14:22
गुजरात की जसवंतीबेन आत्मनिर्भर होना चाहती थीं। इसलिए मन ही मन उन्होंने एक योजना बनाई। उन्होंने अपने साथ कुल आठ महिलाओं को जोड़ा और उस योजना पर अमल करना शुरू किया। सबने मिलकर लिज्जत पापड़ की नींव रखी। अब तक ये लोग अपने साथ 45 हजार से अधिक महिलाओं को... आगे पढ़े

जानिए, कैसे बनाएं मधुरता रिश्तों में

Updated on 16 January, 2015, 14:14
सुखद दांपत्य के लिए कोई बंधा-बंधाया नियम नहीं है। बहुत सारे दंपति यह मानते हैं कि जीवनसाथी को महंगे उपहार देकर और बाहर घूमने-फिरने से ही खुशियां बरकरार रखी जा सकती हैं, पर हकीकत में ऐसा नहीं है। जीवन में छोटी-छोटी बातों को महत्व देकर भी खुशहाल दांपत्य जिया जा... आगे पढ़े

ऐसे बनाऐं रिश्तों में मिठास

Updated on 16 January, 2015, 14:12
रिश्तों को अच्छी तरह से निभाने के लिए यह बहुत जरूरी है कि आपको पता हो कि आपका व्यवहार व दूसरे की समझ कैसी है। स्थितियों व तथ्यों को जानकर समझने की कोशिश करें। विशेषज्ञों का मानना है कि जो दंपति शांत दिख रहे होते हैं या जिनके बीच झगड़ा... आगे पढ़े

क्या युवा पीढ़ी अपनी संस्कृति भूल रही है

Updated on 16 January, 2015, 14:08
संस्कृति से ही है पहचान डॉ. आभा माथुर, उन्नाव किसी भी समाज की पहचान उसकी संस्कृति से ही होती है, लेकिन यह देख कर मुझे बहुत दुख होता है कि हमारी युवा पीढी तेजी से अपनी संस्कृति और पारंपरिक मूल्यों को भूलती जा रही है। बडों का सम्मान करना, अपने त्योहार मनाना,... आगे पढ़े

बैंकिंग में भी स्मार्टनेस जरूरी है.

Updated on 16 January, 2015, 14:06
हलो मैं ..बैंक के हेड ऑफिस से बोल रहा हूं। आपका एटीएम कार्ड ब्लॉक हो गया है उसको फिर से अनब्लॉक करना है, मैं शुरुआत के अंक बता रहा हूं, कृपया आप आखिरी के चार अंक और अपना सीक्रेट पिन कोड बता दें, ताकि आपका एटीएम कार्ड चालू किया जा... आगे पढ़े

अपनी पहचान से संतुष्ट हूं

Updated on 16 January, 2015, 13:58
दिल्ली के सैनिक फार्म स्थित घर में नैना बलसावर से मुलाकात हुई। यलो-पर्पल प्रिंटेड साड़ी में वह बहुत शालीन और सुंदर दिख रही थीं। नियमित योग और डाइट का कमाल भी उनके चेहरे पर नजर आ रहा था। वह अपनी स्थितियों में खुश और संतुष्ट हैं। नैना ने दुनिया देखी... आगे पढ़े

मुझे पंख लग गए

Updated on 16 January, 2015, 13:54
निर्देशक के रूप में अपनी तीसरी फिल्म लेकर आ रहे हैं दिनेश यादव। प्रेम कहानी वाली फिल्मों से चर्चा में आए दिनेश की नई फिल्म ऐक्शन-थ्रिलर है। फिल्म 'धड़के तोहरे नावे करेजवा' के जरिए बतौर डायरेक्टर नाम कमा चुके दिनेश यादव ने अपने करियर की शुरुआत पत्रकारिता से की थी। उनके... आगे पढ़े

कामयाबी की कीमत

Updated on 14 January, 2015, 22:50
अगर हम अपनी जिंदगी की बैलेंस शीट का जायजा लें तो समझ आता है कि क्या पाने के लिए हमने क्या खोया है। फिर भी हमारी ख्वाहिशें कम नहीं होतीं। हमें सब कुछ सबसे अच्छा, ज्यादा और पहले चाहिए। क्या करें, हमारा मन भी मासूम बच्चे की तरह थोडा जिद्दी,... आगे पढ़े

महिलाओं के लिए मिसाल बनीं वामिनी

Updated on 14 January, 2015, 22:47
एक सामान्य धारणा है कि महिलाएं अच्छे से कार नहीं चला सकतीं। बाइक चलाना उनके बस की बात नहीं है। ऐसे में महिलाओं की ड्राइविंग स्किल पर कई चुटकुले भी बने हैं। लोग महिलाओं की ड्राइविंग कौशल का मजाक उड़ाते हैं व उन्हें खराब ड्राइवर माना जाता है। इस अवधारणा... आगे पढ़े

मनोबल रहे ऊंचा

Updated on 14 January, 2015, 22:46
मैं हर साल प्रथम श्रेणी में पास हुआ। कक्षा दस की बोर्ड परीक्षा के लिए तो मैंने ठान लिया था कि मैं अपनी मेहनत और लगन से कॉलेज में टॉप करूंगा। जब मेरा रिजल्ट इंटरनेट पर घोषित हुआ, तो मैं यह देखकर बेहद खुश हुआ कि मैंने 90 परसेंट अंक... आगे पढ़े

खिल रहे हैं नई सोच के रंग

Updated on 14 January, 2015, 22:43
प्यार देना स्त्री का स्वभाव है। उसकी शख्सियत में कोमलता है। भावुकता और समझदारी से वह हर रिश्ते को सहेजती है, पर जब आंच आती है उसके आत्म सम्मान पर तो वही कोमल हृदय स्त्री चत्रन सी मजबूत हो उठती है। उसके व्यक्तित्व में छलकने लगते हैं मजबूत इरादों, अदम्य... आगे पढ़े

न्यू एज राइटर्स

Updated on 14 January, 2015, 22:41
किताबें लिखना कोई नई बात नहीं है, लेकिन हाल के वर्षो में युवा राइटर्स की जो जमात सामने आ रही है, वह कई मायनों में डिफरेंट है। आइटी और मैनेजमेंट फील्ड में अपनी स्पेशलाइजेशन के जलवे दिखाने के बाद इन्होंने अपने शौक के चलते राइटिंग की ओर रुख किया है।... आगे पढ़े

लीडर तुम्हीं हो कल के..

Updated on 14 January, 2015, 22:38
हम में है लीडर कोई डॉक्टर बनना चाहता है, कोई इंजीनियर कोई आइएएस तो कोई वकील, लेकिन अब देश में ऐसी यंग जेनरेशन सामने आ रही है जो अपनी लीडरशिप में आम जन को असली आजादी का अहसास कराना चाहती है.. दिल्ली की सुनसान सडक पर रात के करीब नौ-दस बजे एक... आगे पढ़े

ऐसे बरकरार रखें अपना उत्साह

Updated on 14 January, 2015, 22:24
जिस प्रकार से पहले प्यार की अनुभूति जोश, रोमांच से परिपूर्ण होती है। उसी तरह से नई जॉब के साथ भी ऐसा ही अहसास होता है, पर वक्त के साथ यह अहसास ठंडा पड़ने लगता है। जॉब में ऐसा न हो इसके लिए आपको निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए। मुस्कराहट से... आगे पढ़े

परफॉर्म करें या पीछे रहें

Updated on 14 January, 2015, 22:21
तरक्की पाने के लिए परफॉर्म करना जरूरी होता है, लेकिन कई एम्प्लायी ऐसे होते हैं, जो सामने आए अवसर को भुना नहीं पाते। कैसे खुद को ऑर्गेनाइजेशन के लिए वैल्यूएबल साबित करें, बता रहे हैं अरुण श्रीवास्तव.. उन तीन दोस्तों ने एक साथ स्टडी पूरी करने के बाद नौकरी भी लगभग... आगे पढ़े

साबित किया है खुद को

Updated on 14 January, 2015, 22:19
अकसर लोग एक खास उम्र के बाद करियर की शुरुआत करते हैं, लेकिन मेरा संघर्ष बहुत छोटी उम्र से ही शुरू हो गया था। संगीत से मुझे बेहद लगाव था और मैं इसी क्षेत्र में पहचान बनाना चाहती थी। इस सपने को साकार करने में मेरे माता-पिता का बडा योगदान... आगे पढ़े

अनेक बेसहारों का सहारा

Updated on 14 January, 2015, 22:12
एक पंजाबी गीत की ये पंक्तियां कह रही हैं कि बेटे जहां जमीन बांटने में व्यस्त रहते हैं वहीं बेटियां माता-पिता का दुख-दर्द बांटती हैं। आज न केवल पंजाब, बल्कि देशभर में ऐसे कई उदाहरण देखने-सुनने को मिल जाते हैं। राजू के मामले में भले ही ये शब्द पूरी तरह... आगे पढ़े

खुद को करें तैयार

Updated on 14 January, 2015, 22:10
जॉब मार्केट में मंदी का यह आलम है कि तमाम फ्रेशर्स डिग्री होल्डर्स को न तो कैंपस से प्लेसमेंट मिल पा रही है और न ही बाहर तलाशने पर। ऐसे में युवा कहीं भी, कुछ भी करने को तैयार हैं। इस स्थिति से बचने के लिए क्या करें और खुद... आगे पढ़े

सास-बहू में न बने तो क्या करें, पढ़ें उपाय

Updated on 14 January, 2015, 22:01
सास व बहू में आपसी संबंध कटु होने पर बहू चांदी का चौकोर टुकड़ा अपने पास रखें। हल्दी या केसर की बिंदी माथे पर लगाएं। हल्दी या केसर की बिंदी माथे पर लगाएं। गले में चांदी की चेन धारण करें। किसी से भी कोई वस्तु न लें। मंगलवार को मंदिर के बाहर बैठे गरीबों को... आगे पढ़े