Sunday, 17 February 2019, 9:02 PM

धर्म कर्म

गीता ज्ञानः ऐसे लोगों की भगवान हमेशा रक्षा करते हैं

Updated on 29 August, 2018, 7:20
अनन्याश्चिन्तयन्तो मां ये जना: पर्युपासते। तेषां नित्याभियुक्तानां योगक्षेमं वहाम्यहम् ।। गीता 9/22।। अर्थ : जो भक्तजन अनन्य भाव से मेरा चिंतन करते हुए मुझे पूजते हैं, ऐसे नित्ययुक्त साधकों के योगक्षेम को मैं स्वयं वहन करता हूं। व्याख्या : जिस व्यक्ति के मन में हर समय केवल परमात्मा ही बसें हों और... आगे पढ़े

हनुमान जी के सिवा कोई नहीं कर सकता था यह 6 काम

Updated on 28 August, 2018, 7:00
शिव पुराण के अनुसार महावीर हनुमान जो को शिव जी का रौद्र अवतार माना जाता है। कहते हैं कि त्रेतायुग में श्रीराम की सहायता करने और पापियों का नाश करने के लिए हनुमान जी धरती पर अवतरित हुए थे। पौराणिक कथाओं के अनुसार हनुमान जी केवल एकमात्र एेसे देव थे,... आगे पढ़े

क्यों गरूड़ को हुआ श्रीराम के भगवान होने पर शक

Updated on 26 August, 2018, 7:00
रामायण हिंदू धर्म का प्रमुख ग्रंथ, जिसके बारे में ज्यादातर लोग जानते ही हैं। हिंदू धर्म के इस ग्रंथ के रचयिता तुलीसदास जी है। लेकिन क्या आप जानते हैं तुलसीदास जी से पहले ही किसी ने पूरी राम कथा का प्रचार कर दिया था। जी हां, आज हम आपको बताएंगे... आगे पढ़े

क्यों श्रीकृष्ण ने किया था कर्ण का अंतिम संस्कार

Updated on 25 August, 2018, 6:40
महाभारत की बात करे तो एेसे कई पात्र जिनका नाम आज भी याद किया जाता है। श्रीकृष्ण के अलावा पांडवों को महाभारत के नायक के रूप में जाना जाता है। लेकिन कौरवों को इतने मान-सम्मान से नहीं देखा जाता। लेकिन कौरवों में से कर्ण को उनका साथ देने के बावज़ूद... आगे पढ़े

इस तरह शुरू हुआ रक्षाबंधन का त्योहार, ये हैं 5 पौराणिक रोचक कथाएं

Updated on 24 August, 2018, 7:00
भाई-बहन के अटूट प्रेम को समर्पित रक्षाबंधन का त्योहार इस बार 26 अगस्त रविवार को मनाया जाएगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस त्योहार की शुरुआत सगे भाई-बहनों ने नहीं की थी। रक्षाबंधन कब शुरू हुआ, इसे लेकर कोई तारीख स्पष्ट नहीं है। वैसे, माना जाता है कि इस... आगे पढ़े

सफलता प्राप्त करने का श्रीकृष्ण ने बताया सबसे सरल तरीका

Updated on 24 August, 2018, 6:40
श्री श्री आनन्दमूर्ति प्रत्येक मनुष्य का जीवन सफलता के शिखर को छू नहीं पाता। इसका सबसे बढ़ा कारण उचित मार्गदर्शन का अभाव है। प्राचीन भारत में लगभग साढ़े तीन हजार वर्ष पूर्व एक योगी राजा हुए थे। उनके मार्गदर्शक भगवान कृष्ण थे। कृष्ण महान योगी थे। उस योगी राजा का नाम... आगे पढ़े

हर बला से भाइयों की रक्षा करता है रक्षासूत्र, बांधने का यह है सही तरीका

Updated on 23 August, 2018, 6:20
  रक्षाबंधन के त्योहार के लिए बाजार तैयार है। बहनों ने अपने भाइयों के लिए राखियां लेना शुरू कर दिया है। जिनके भाई दूर रहते हैं, उनके लिए बहनों ने स्नेह के धागों से बनी राखियां भेज दी हैं ताकि उनके भाइयों की कलाई सूनी न रहे। भाई-बहन के प्रेम को दर्शाता... आगे पढ़े

सतयुग से लेकर आजतक इन घटनाओं ने बढ़ाया राखी पर विश्वास

Updated on 22 August, 2018, 7:00
रक्षाबंधन मनाने के पीछे जितने भी कारण हैं उनमें कृष्ण-द्रौपदी की कहानी सबसे रोचक है। कथा है कि जब युधिष्ठिर इंद्रप्रस्थ में राज्याभिषेक होना था उस समय सभा में शिशुपाल भी मौजूद था। शिशुपाल ने भगवान श्रीकृष्ण का अपमान किया तो श्रीकृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र से शिशुपाल का सिर... आगे पढ़े

इस स्‍थान पर मिलता है मां सरस्‍वती के साक्षात दर्शन का लाभ

Updated on 21 August, 2018, 7:00
कहते हैं भगवान अब भी धरती पर हैं और अपनी लीलाओं से भक्‍तों को कष्‍ट निवारण करने के साथ उनके दुखों को दूर करते हैं। इसका सबसे बेहतर उदाहरण है मां सरस्‍वती का यह मंदिर। उत्तराखंड में बद्रीनाथ धाम से करीब 3 किमी दूर माणा गांव है। यह भारत चीन... आगे पढ़े

महाभारत के इस पात्र ने भी किया था बहुत बड़ा बलिदान, जानें कौन है ये

Updated on 21 August, 2018, 6:20
महाभारत हिंदू धर्म का एक प्रमुख ग्रंथ है। ये एकमात्र एेसा पुराण है जिसके पात्र आज भी चर्चा का विषय हैं। हिंदू धर्म का शायद ही कोई एेसा व्यक्ति होगा जिसे महाभारत के बारे में नहीं पता होगा। जब भी इस महाकाव्य की बात की जाती है तो पांडव और... आगे पढ़े

वैष्णो देवी यात्रियों के लिए खुशखबरी, अब मिलेंगी हाईटेक सुविधाएं

Updated on 20 August, 2018, 20:15
जम्मू। जम्मू के कटरा में स्थित श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड दर्शनों के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को हाईटैक सुविधाएं देने जा रहा है। यह सुविधाएं ऐसी हैं कि इसके बाद न सिर्फ श्रद्धालुओं की जान की सुरक्षा होगी बल्कि उनके माल की भी बचत होगी। बोर्ड ने घोड़ा-पालकी... आगे पढ़े

ज्यादातर इस तरह के व्यक्ति फंसते हैं जन्म-मरण के चक्र में

Updated on 20 August, 2018, 7:00
सुरक्षित गोस्वामी ते तं भुक्त्वा स्वर्गलोकं विशालं क्षीणे पुण्ये मर्त्यलोकं विशन्ति | एवं त्रयीधर्ममनुप्रपन्ना गतागतं कामकामा लभन्ते || गीता 9/21|| अर्थ: वे उस विशाल स्वर्गलोक को भोगकर पुण्य क्षीण होने पर मृत्यु लोक में लौट आते हैं। इस प्रकार तीनों वेदों के धर्म का पालन करते हुए, भोगों की कामना करने वाले बार-बार... आगे पढ़े

सावन: इस अचूक तरीके का करें इस्तेमाल, लाइफ में आएगा बड़ा बदलाव

Updated on 19 August, 2018, 11:30
सावन मास में शिव को प्रसन्न करने का यह एक अचूक तरीका हम आपके लिए लाए हैं। पूरी श्रद्धा और भक्ति से करके देखें जीवन में चमत्कार जरूर होगा। भक्त भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए बेलपत्र और शमीपत्र चढ़ाते हैं। इस संबंध में एक पौराणिक कथा के अनुसार... आगे पढ़े

जब कलयुग चरम पर होगा तब जन्म लेंगे भगवान, ये होंगे पत्नी और संतान के नाम

Updated on 18 August, 2018, 6:40
शास्त्रों में बताया गया है कि जब कलयुग अपने चरम पर होगा तब भगवान विष्णु 10वां अवतार कल्कि के रूप में लेंगे। भगवान विष्णु ने अबतक नौ अवतार लिए हैं और ये अवतार त्रेतायुग, सतयुग और द्वापर युग में हुए थे। पुराणों में बताया गया है कि कलयुग में उनका... आगे पढ़े

भगवान की जांघ से जन्मी थी यह अप्सरा, इंद्र हुए थे लज्जित

Updated on 17 August, 2018, 7:00
धर्मशास्त्रों के अनुसार, भगवान नर और नारायण ब्रह्मदेव के प्रपौत्र थे। ये ब्रह्माजी के बेटे धर्म और पुत्रबधु रुचि की संतान थे। ये भगवान विष्णु के अवतार हैं। पृथ्वी पर धर्म के प्रसार का श्रेय इन्हीं को जाता है। कहते हैं कि द्वापर युग में नर-नारायण की श्रीकृष्ण और अर्जुन... आगे पढ़े

तिरुपति के बंद कपाट में तैयार हुआ अष्ट बंधन

Updated on 16 August, 2018, 6:41
तिरुपति के तिरुमाला वेंकटेश्वर मंदिर में मंगलवार 14 अगस्त को हर 12 साल पर होने वाला अष्ट बंधन संप्रोक्षणम् अनुष्ठान का आयोजन किया गया। इस आयोजन के कारण 9 अगस्त से लेकर 17 अगस्त की सुबह तक आम श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के कपाट बंद हैं। इसकी वजह यह है... आगे पढ़े

साल में एक बार सिर्फ नागपंचमी को खुलते हैं इस मंदिर के पट

Updated on 15 August, 2018, 7:00
उज्जैन। सनातन संस्कृति में नाग पूजा का विशेष विधान रहा है। भारत में सांपों को देवता माना जाता है और कई जगहों पर उनकी मूर्ति मंदिरों में स्थापित कर पूजा की जाती है। ऐसा ही विशेष मंदिर उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में है, जिसको नागचंद्रेश्वर के नाम से जाना जाता... आगे पढ़े

मौत कितनी हसीन है, आईए करीब से जानें

Updated on 14 August, 2018, 6:40
राजा परीक्षित को श्रीमद्भागवत पुराण सुनाते हुए जब शुकदेव जी महाराज को छ: दिन बीत गए और तक्षक (सर्प) के काटने से मृत्यु होने का एक दिन शेष रह गया, तब भी राजा परीक्षित का शोक और मृत्यु का भय दूर नहीं हुआ। मरने की घड़ी निकट आते देखकर राजा... आगे पढ़े

जानें हरियाली तीज व्रत से जुड़ी 10 खास बातें-

Updated on 13 August, 2018, 10:26
1- हरियाली तीज व्रत करने के पीछे कथा है कि मां पार्वती ने भगवान शिव से विवाह करने के लिए बहुत ही कठिन तपस्या की थी। इस तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने आज ही के दिन यानी श्रावण मास शुक्ल पक्ष की तीज को मां पार्वती के सामने... आगे पढ़े

अच्छी नहीं दोस्त और पत्नी की यह आदत, कहता है गरुड़ पुराण

Updated on 12 August, 2018, 8:20
पुराणों और धार्मिक शास्त्रों में हमारे जीवन से जुड़े कई सूत्रों को बताया गया है। इन सूत्रों और नियमों के आधार पर अगर हम जीवन जिएं तो निश्चित ही हमारे कई कष्ट अपने आप दूर हो जाएंगे। गरुड़ पुराण में पत्नी, सच्चे मित्र और सही नौकर के बारे में कुछ... आगे पढ़े

सावन की किस खास पूजा ने श्रीराम को दिलाई थी जीत

Updated on 12 August, 2018, 6:40
जब सृष्टि की संरचना हुई तब से ही शिवलिंग की पूजा होती आ रही है। पुराणों और शास्त्रों में भी शिवलिंग के महत्व के बारे में कई जगह उल्लेख किया गया है। शिवलिंग की महत्वता के बारे में इस बात से पता चलता है कि श्रीहरि ने भी अपने राम... आगे पढ़े

Surya grahan 2018: साल का आखिरी सूर्य ग्रहण आज, इन राशियों को होगा लाभ

Updated on 11 August, 2018, 9:45
surya grahan in august 2018: आज इस साल का सबसे आखिरी सूर्य ग्रहण लगेगा। भारत के समय अनुसार यह ग्रहण दोपहर 1 बजे लगेगा।  ज्योतिर्विद पं दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली के अनुसार भारत में सूर्य ग्रहण के दृश्य नही होने के कारण इसकी धार्मिक मान्यता नही है ,तथापि गोचरीय दृष्टि से... आगे पढ़े

माता सीता की मदद से श्रीराम ने पास की थी ये परीक्षा

Updated on 11 August, 2018, 7:00
जैसे कि को पता है कि सावन का पावन महीना चल रहा है, इस माह में शिव का पूजन विशेष रहता है। शिव पुराण में इस महीने में किए जाने वाली पूजन के साथ-साथ इसके महत्व के बारे में भी बताया गया है। इसके अनुसार जो भी साधक इन दिनों... आगे पढ़े

सर्वनाश का कारण बनती हैं ये 9 बातें, रामायण के अनुसार

Updated on 10 August, 2018, 6:40
रावण बहुत विद्वान था। धार्मिक पुस्तकों में उसे प्रखांड पंडित की उपाधि भी दी गई है। लेकिन कुछ अवगुणों के कारण वह अपने परिवार के साथ ही सोने की लंका को भी गंवा बैठा और आज भी उसे एक दुराचारी और पापी की तरह ही देखा जाता है। रावण का... आगे पढ़े

साल का आखिरी सूर्यग्रहण चीन के लिए अशुभ, भारत में रहने वालों पर प्रभाव जानें

Updated on 10 August, 2018, 6:20
मेदिनी ज्योतिष में ग्रहण के समय बनानेवाली ग्रह स्थिति का बहुत महत्व है। इसका उपयोग मौसम में होनेवाले परिवर्तनों, वर्षा, बाढ़ और भूकंपन आदि की भविष्यवाणियों के लिए किया जाता हैl क्योंकि ग्रहण राजसी ग्रहों सूर्य और चंद्रमा पर लगता है तो इसलिए इसका प्रभाव महत्वपूर्ण व्यक्तियों और शासक वर्ग... आगे पढ़े

सावन शिवरात्रि आज, बना अनोखा शुभ संयोग, पूरी होगी शिवभक्तों की मनोकामना

Updated on 9 August, 2018, 12:45
वैसे तो प्रत्येक महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है। इस समय सावन का महीना चल रहा है जिसके कारण शिवरात्रि का बहुत महत्व है। सावन महीने के शिवरात्रि को सबसे ज्यादा शिवलिंग पर जल इसी दिन चढ़ाया जाता है। इस मौके पर देशभर के... आगे पढ़े

इस युद्ध को रोकने के लिए स्वयं शिव पधारे थे पृथ्वी पर

Updated on 9 August, 2018, 8:20
अपने भक्तों के कष्ट हरने के लिए शिव समय-समय पर पृथ्वी पर आते हैं। ऐसा ही एक वाकया द्वापर युग में महाभारत के युद्ध के बाद हुआ। यह युद्ध इतना भीषण था कि इसे समाप्त कराने के लिए स्वयं भगवान शंकर पृथ्वी पर प्रकट हुए थे। यह युद्ध था स्वयं... आगे पढ़े

इस वजह से भगवान शिव को कहा जाता है पशुपति, इन्होंने दिया था आशुतोष नाम

Updated on 9 August, 2018, 7:00
श्री श्री आनन्दमूर्ति वज्र शिव का शक्तिशाली अस्त्र है। वज्र को शिव निरीह पशु-पक्षियों को बचाने के लिए तथा मानवता विरोधी व्यक्तियों के विरुद्ध व्यवहार में लाते थे। शिव जीवन के सब क्षेत्रों में अत्यंत संयमी कहे जाते हैं। इसलिए अस्त्र का व्यवहार वह कभी-कभार ही करते थे। उन्होंने अच्छे लोगों... आगे पढ़े

जानें महाकाल की भस्‍म आरती का रहस्‍य, क्‍यों महिलाओं को यहां करना पड़ता है घूंघट

Updated on 9 August, 2018, 6:40
भगवान शिव के सबसे रहस्‍यमयी स्‍वरूपों में से एक है महाकाल। वर्तमान में महाकाल के रूप में भगवान भोलेनाथ तीर्थ नगरी उज्‍जैन में विराजमान हैं। महाकाल की 5 आरतियां होती हैं, जिसमें सबसे खास मानी जाती है भस्‍म आरती। भस्‍म आरती यहां भोर में 4 बजे होती है। आइए जानते... आगे पढ़े

11 अगस्त को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, जानें ग्रहण का समय

Updated on 7 August, 2018, 13:03
Solar Eclipse August 2018: 11 अगस्त को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण लगने वाला है। यह साल का तीसरा सूर्य ग्रहण होगा। इसे पहले 13 जुलाई और 15 फरवरी 2018 को दो सूर्य ग्रहण पड़ चुके हैं। 11 अगस्त के ग्रहण के बाद अब अगला सूर्य ग्रहण 6 जनवरी 2019... आगे पढ़े

कौन हैं शिव ?

Updated on 6 August, 2018, 19:15
शिव संस्कृत भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ है, कल्याणकारी या शुभकारी। यजुर्वेद में शिव को शांतिदाता बताया गया है। 'शि' का अर्थ है, पापों का नाश करने वाला, जबकि 'व' का अर्थ देने वाला यानी दाता।   क्या है शिवलिंग...???   शिव की दो काया है। एक वह, जो स्थूल रूप से व्यक्त... आगे पढ़े

हत्या देवी, इसलिए मंदिर में जाने से डरते हैं पुरोहित के वंशज

Updated on 6 August, 2018, 8:20
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में एक ऐसा मंदिर है, जहां एक गांव के लोग हर रोज दर्शन करते हैं और दूसरे गांव के लोग वहां जाने से भी डरते हैं। हत्या देवी कोई और नहीं सुकेत राज्य की राजकुमारी हैं। एक समय में मंडी का नाम सुकेत हुआ करता... आगे पढ़े

भगवान ने बताया इस तरह मै ही हूं अमृत और मृत्यु

Updated on 6 August, 2018, 7:00
सुरक्षित गोस्वामी तपाम्यहमहं वर्षं निगृह्णम्युत्सृजामि च | अमृतं चैव मृत्युश्च सदसच्चाहमर्जुन || गीता 9/19|| अर्थ: मैं ही सूर्य रूप से तपता हूं, वर्षा का आकर्षण और बरसाता हूं। हे अर्जुन! अमृत और मृत्यु मैं ही हूं और मैं ही सत्-असत् भी हूं। व्याख्या: क्योंकि परमात्मा कण-कण में व्याप्त है, इसलिए जो कुछ भी इस... आगे पढ़े

मंदिर के 7 दरवाजों के पीछे ऐसा रहस्य, डरती है दुनिया खुल गया तो

Updated on 5 August, 2018, 7:00
केरल के तिरुवनंतपुरम में स्थित पद्मनाभ स्वामी मंदिर, भगवान विष्णु को समर्पित है, जो पूरी दुनिया में मशहूर है। साथ ही दुनिया के कुछ रहस्यमय जगहों में इसकी गिनती होती है। दरअसल, यहां ऐसे कई रहस्य हैं, जिन्हें कई कोशिशों के बाद भी लोग इसको सुलझा नहीं पाएं हैं। इस... आगे पढ़े

एकादश रुद्र का स्मरण

Updated on 4 August, 2018, 9:07
शास्त्रों के मुताबिक शिव ग्यारह अलग-अलग रुद्र रूपों में दु:खों का नाश करते हैं। यह ग्यारह रूप एकादश रुद्र के नाम से जाने जाते हैं। जानते हैं:- 🕉1. शम्भू– शास्त्रों के मुताबिक यह रुद्र रूप साक्षात ब्रह्म है। इस रूप में ही वह जगत की रचना, पालन और संहार करते हैं। 🕉2. पिनाकी... आगे पढ़े

ये थे भगवान विष्णु के पहले अवतार

Updated on 4 August, 2018, 8:20
सत्यव्रत नाम के राजा एक दिन कृतमाला नदी में सूर्यदेव को अर्घ्य दे रहे थे। उसी समय उनके हाथ में एक छोटी सी मछली आ गई। राजा ने उस मछली को वापिस नदी में डाल दिया तो मछली ने उसे कहा कि इस जल में बड़े जीव-जंतु मुझे खा जाएंगे।... आगे पढ़े

धर्म को मोक्ष की जगह अगर इससे जोड़ें तो सभी समस्याओं का होगा अंत

Updated on 4 August, 2018, 7:00
आचार्य लोकेशमुनि अंतरराष्ट्रीय रिसर्च संगठन ग्लोबल फुटप्रिंट नेटवर्क ने गणना करके बताया है कि हमारे अतिभोग के चलते पृथ्वी के संसाधनों के खात्मे की तारीख तेजी से करीब आती जा रही है। भविष्य के लिए निर्धारित संसाधनों को हम वर्तमान में खर्च करके सर्वनाश की ओर बढ़ रहे हैं। आज सारे... आगे पढ़े

एक ऐसा जंगल जो अनजाने में बन गया पाप का भागीदार

Updated on 3 August, 2018, 8:20
हिंदू धर्म के शास्त्रों व ग्रथों में एेसे कई पात्र और स्थानों के बार में बताया गया है जो अपने आप में ऐतिहासिक व रहस्यमयी है। हिंदू धर्म में देवी-देवताओं की संख्या ज्यादा होने के कारण इनसे जुड़े स्थान व कथाओं की संख्या भी अधिक हैं। लेकिन आज एेसे कई... आगे पढ़े

सीता स्वयंवर में तोड़े गए धनुष का रहस्य जानते हैं आप ?

Updated on 3 August, 2018, 7:00
राजा जनक भगवान शिव के वंशज थे और भोलेनाथ का धनुष उनके राज महल में रखा था। महाराज जनक ने कहा था कि जो उस धनुष की प्रत्यंचा को चढ़ा देगा, उसी से मेरी पुत्री सीता का विवाह होगा। शिव धनुष कोई साधारण धनुष नहीं था बल्कि उस काल का... आगे पढ़े

रुद्राभिषेक के विभिन्न पूजन के लाभ

Updated on 2 August, 2018, 10:14
रुद्राभिषेक के विभिन्न पूजन के लाभ इस प्रकार हैं- • जल से अभिषेक करने पर वर्षा होती है। • असाध्य रोगों को शांत करने के लिए कुशोदक से रुद्राभिषेक करें। • भवन-वाहन के लिए दही से रुद्राभिषेक करें। • लक्ष्मी प्राप्ति के लिये गन्ने के रस से रुद्राभिषेक करें। • धन-वृद्धि के लिए शहद एवं... आगे पढ़े

क्या है शिव की प्रिय कांवड़ यात्रा का रहस्य, जानें इससे जुड़ी मान्यताएं

Updated on 2 August, 2018, 8:20
हिंदू धर्म के अनुसार सावन भगवान शिव का प्रिय माह है। जिस कारण इस महीने में भोलेनाथ के भक्त उनकी प्रिय कांवड़ यात्रा निकालते हैं। लेकिन यह यात्रा कैसे और कब शुरू हुई इसके बारे में शायद ही किसी को पता होगा। तो आईए जानते हैं, कि इससे जुड़ी मान्यताओं... आगे पढ़े

मानो या न मानो: श्रीराम ने अपने कर्म का फल श्रीकृष्ण के रूप में भोगा

Updated on 1 August, 2018, 7:00
मनुष्य को अपने कर्मों का फल भोगना पड़ता है, हिंदू धर्म में यह मान्यता है। संत-साधु कहते हैं कि कर्म के फल से तो स्वयं भगवान विष्णु भी नहीं बच पाए। दरअसल भगवान विष्णु के 10 अवतारों में श्रीराम और श्रीकृष्ण भी हैं। जब भगवान राम माता सीता की खोज... आगे पढ़े

जानें, कैसे बना बदसूरत प्राणी भगवान राम के स्पर्श से खुबसूरत

Updated on 31 July, 2018, 8:20
बहुत पहले की बात है? तब गिलहरी काली और बदसूरत हुआ करती थी। लोग भी उसे पसंद नहीं करते थे। वह घरों में पहुंच जाती तो लोग उसे भगाने लगते। निराश गिलहरी गांव में एक साधु बाबा के पास रहने लगी। जो बाबा खाते, वह गिलहरी खाती। उनके यज्ञ की... आगे पढ़े

शास्त्रों से जानें भगवान सूर्य की महत्ता और महिमा

Updated on 30 July, 2018, 8:40
हिंदू शास्त्रों में सूर्य देव को सारे जगत का कर्ता-धर्ता कहा गया है। ऋग्वेद के देवताओं में सूर्य का महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। वहीं ब्रह्मवैर्वत पुराण में तो सूर्य को परमात्मा स्वरूप माना जाता है। इतना ही नहीं प्रसिद्ध गायत्री मंत्र सूर्य परक ही है। इसके साथ नव ग्रह में... आगे पढ़े

सावन की पहली सोमवारी पर उमड़े श्रद्धालु, जानें पूजा की विधि

Updated on 30 July, 2018, 7:14
नई दिल्ली, आज सावन की पहली सोमवारी है. देशभर के मंदिरों में इस मौके पर श्रद्धालु भगवान शिव का जलाभिषेक कर रहे हैं. पूरा पूरा श्रावण मास जप,तप और ध्यान के लिए उत्तम होता है, पर इसमें सोमवार का विशेष महत्व है. सोमवार का दिन चन्द्र ग्रह का दिन होता है... आगे पढ़े

क्या सच में इस रुप में ली भगवान शिव ने माता पार्वती की परीक्षा

Updated on 30 July, 2018, 7:00
मां पार्वती भगवान शिव को अपने पति रुप में पाने के लिए घोर तप कर रहीं थीं। उनकी तपस्या को देखकर भगवान ने उनकी परीक्षा लेने का सोचा। उन्होंने पार्वती जी की परीक्षा लेने सप्तर्षियों को भेजा। मां गौरी के सामने सप्तर्षियों ने शिव जी के अवगुण बताएं लेकिन माता... आगे पढ़े

सावन में रोज़ाना करें शिव का पूजन, सफल बनेगा जीवन

Updated on 29 July, 2018, 8:20
नाग देवता भगवान शिव के गले का शृंगार हैं, इसलिए सावन मास में भगवान शिव के साथ-साथ शिव परिवार और नागों की भी पूजा करनी चाहिए। श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि नाग पंचमी के रूप में मनाई जाती है। इस दिन पांच फन वाले नाग देवता की... आगे पढ़े

आज के दिन करें श्री सत्यनारायण व्रत कथा, बनेंगे बिगड़े काम

Updated on 28 July, 2018, 7:00
एक बार नारद जी ने भ्रमण करते हुए मृत्युलोक के प्राणियों को अपने-अपने कर्मों के अनुसार तरह-तरह के दुखों से परेशान होते हुए देखा। इससे उनका हृदय द्रवित हो उठा और वह अपने परम आराध्य भगवान श्री हरि की शरण में कीर्तन करते पहुंच गए और स्तुतिपूर्वक बोले, ‘हे नाथ!... आगे पढ़े

सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण, बाइबल में हैं विनाश की भविष्यवाणियां!

Updated on 27 July, 2018, 19:53
27 जुलाई को 21वीं सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण होने वाला है. ये खग्रास चंद्रग्रहण है यानी पूर्ण चंद्रग्रहण. दुनियाभर के लिए यह एक महत्वपूर्ण खगोलीय घटना है. ये चंद्रग्रहण साल 2001 से लेकर साल 2100 तक का सबसे लंबा चंद्रग्रहण होगा. इसकी कुल अवधि 6 घंटा 14 मिनट रहेगी. इसमें पूर्णचंद्र... आगे पढ़े

लग गया चंद्रग्रहण का सूतक, अब सुबह तक ना करें ये काम

Updated on 27 July, 2018, 18:14
आज रात 11 बजकर 55 मिनट से ग्रहण लगने जा रहा है। शास्त्रों के नियमानुसार चंद्रग्रहण से 9 घंटे पहले सूतक लग जाता है। इस नियम के अनुसार 2 बजकर 54 मिनट पर सूतक लग गया है। इसके साथ ही देश के सभी मंदिरों के कपाट बंद हो चुके हैं। काशी... आगे पढ़े