नई दिल्ली । केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने संडे संवाद के पांचवें एपिसोड में अपने सोशल मीडिया इंटरेक्टर्स के एक समूह द्वारा पूछे गए सवालों के उत्‍तर दिए। कोविड के संबंध में अफवाहों को दूर करने और प्रचलित गलतफहमी को दूर करने के लिए, स्वास्थ्य मंत्री ने कोविड के खिलाफ लड़ाई में आयुर्वेद की भूमिका, पुन: संक्रमण पर आईसीएमआर के आगामी अध्ययन, टीकाकरण के लिए चयन मानदंड पर विस्तृत जानकारी दी। दिल्ली के चांदनी चौक क्षेत्र में सामने आने वाली विभिन्न कठिनाइयों के बारे में जानने के लिए, उन्होंने एक प्रतिक्रिया के रूप में सार्वजनिक मंच पर अपना संपर्क संबंधी विवरण साझा किया और आश्वासन दिया कि उनके निर्वाचन क्षेत्र में लोगों के सामने आने वाली सभी समस्‍याओं को प्राथमिकता के आधार पर हल किया जाएगा।
लोगों को अधिक भीड़-भाड़ से दूर रहने और सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का सावधानी से पालन करने की चेतावनी देते हुए, डॉ. हर्षवर्धन ने लोगों को मेलों और पंडालों तक बाहर जाने के बजाय, अपने प्रियजनों के साथ घर पर आने वाले त्योहारों को मनाने का अनुरोध किया। लोगों को बताया कोविड के खिलाफ लड़ना सबसे महत्वपूर्ण धर्म है, उन्होंने समझाया कि देश के स्वास्थ्य मंत्री के रूप में उनका धर्म वायरस के प्रभाव को कम करना और किसी भी कीमत पर मौतों को रोकना है। “भगवत गीता योद्धाओं को युद्ध के लिए माफी देती है। इसलिए, अपने विश्वास या अपने धर्म को साबित करने के लिए बड़ी संख्या में एकत्रित होने की आवश्यकता नहीं है। यदि हम ऐसा करते हैं, तो हम बड़ी मुसीबत में पड़ सकते हैं। भगवान कृष्ण कहते हैं कि अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करें। हमारा लक्ष्य इस वायरस को खत्म करना और मानवता को बचाना है। यही हमारा धर्म है। यही पूरी दुनिया का धर्म है। उन्होंने कहा कि "असाधारण परिस्थितियों को असाधारण प्रत्‍युत्‍तर मिलना चाहिए। कोई भी धर्म या ईश्वर यह नहीं कहता है कि आपको आडम्बरपूर्ण तरीके से जश्न मनाना है अथवा प्रार्थना करने के लिए आपको पंडालों और मंदिरों व मस्जिदों तक जाना है। उन्होंने नागरिकों से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्पष्ट आह्वान में शामिल होने के लिए कहा और दो महीने (सर्दियों के मौसम सहित) के दौरान बड़े पैमाने पर देशव्यापी जागरूकता अभियान और "जन आंदोलन" में शामिल होने का आह्वान किया ताकि महामारी न फैले। डॉ. हर्षवर्धन ने सर्दियों के दौरान नोवेल कोरोनोवायरस के संक्रमण में वृद्धि की संभावना बताई, क्योंकि यह एक श्वसन वायरस है और श्वसन वायरस के संक्रमण को ठंड के मौसम में बढ़ने के लिए जाना जाता है। उन्होंने कहा, “ये वायरस ठंड के मौसम और कम आर्द्रता की स्थिति में बेहतर पनपने के लिए जाने जाते हैं। इसे ध्‍यान में रखते हुए, यह मानना गलत नहीं होगा कि सर्दियों के मौसम में भारतीय परिप्रेक्ष्‍य में नोवेल कोरोनवायरस के संक्रमण की बढ़ी हुई दरें भी देखी जा सकती हैं”। उन्होंने खासकर जब सार्वजनिक स्थानों पर मास्क/फेस कवर पहनने, नियमित रूप से हाथ धोने और श्वसन के तौर-तरीके बनाए रखने जैसे कि कोविड के विरुद्ध उचित व्यवहारों का पालन करने के लिए कहा, क्‍योंकि हमें बीमारियों के फैलने से रोकने में मदद मिलती है।
डॉ. हर्षवर्धन ने निकट भविष्य में फेलूदा टेस्ट के शुरू होने संभावना की खुशखबरी भी  साझा की। इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (आईजीआईबी) में ट्रायल के दौरान 2000 से अधिक रोगियों में परीक्षण के आधार पर और निजी प्रयोगशालाओं में परीक्षण के आधार पर, परीक्षण में 96 प्रतिशत संवेदनशीलता और 98 प्रतिशत विशिष्टता देखी गई। उन्होंने कहा कि आईसीएमआर की तुलनात्मक रूप से आरटी-पीसीआर किट की कम से कम 95 प्रतिशत संवेदनशीलता और कम से कम 99 प्रतिशत विशिष्टता के आईसीएमआर के वर्तमान मानदंड की तुलना करें। उन्होंने कहा कि एसआरएस-सीओवी-2 निदान के लिए फेलूदा पेपर स्ट्रिप टेस्ट को सीएसआईआर-आईजीआईबी द्वारा विकसित किया गया है और इसे ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया द्वारा एक वाणिज्यिक लॉन्च के लिए अनुमोदित किया गया है। किट को पहले से ही परमाणु ऊर्जा विभाग के जैव विज्ञान केंद्र, बैंगलोर द्वारा मान्य किया गया है। उन्होंने कहा, ''हालांकि मैं इसकी उपलब्धता के बारे में सटीक तारीख नहीं बता सकता, किंतु हमें अगले कुछ हफ्तों के भीतर इस परीक्षण की उम्मीद करनी चाहिए।''