भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने विभिन्न सिंचाई परियोजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये हैं कि समय पर परियोजनाओं के कार्य पूरे कर किसानों और ग्रामवासियों को लाभ पहुँचाना सुनिश्चित करें। वर्ष 2024 तक नर्मदा जल के अधिकतम उपयोग के लक्ष्य को हासिल करने के लिए तीव्रगति से कार्य करें।मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में नर्मदा नियंत्रण मंडल की 71वीं बैठक को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि परियोजनाओं के क्रियान्वयन में धन की कमी आड़े नहीं आएगी। उन्होंने छैगांवमाखन उद्वहन सिंचाई परियोजना, अलीराजपुर उद्बहन सिंचाई परियोजना, बिस्टान उद्वाहन सिंचाई परियोजना, छीपानेर माइक्रो उद्वहन सिंचाई परियोजना, ग्रुप माइक्रो सिंचाई परियोजना, (अम्बा रोडिया, बलकवाड़ा, चौण्डी जामन्या, एवं सिमरोल अम्बाचंदन) ढीमरखेड़ा माइक्रो उद्वहन सिंचाई परियोजना और हालोन परियोजना से संबंधित कार्यों की जानकारी प्राप्त की। अपर मुख्य सचिव श्री आई.सी.पी. केशरी ने बताया कि छीपानेर और ढीमरखेड़ा परियोजना का कार्य जून 2022 तक पूर्ण हो जाएगा। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री मनीष रस्तोगी और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।