महिला आई पुलिस की  गिरफ्त में 

इंदौर खजराना थाना पुलिस ने नाबालिग बच्चो से भीख मंगवाने वाली एक महिला को हिरासत में लेकर  उसके पास से 5 बच्चो को मुक्त कराया गया है गौरतलब है कि  01.10.2021 को फरियादी द्वारा थाना खजराना आकर रिपोर्ट किया कि वह दिनांक 30 सितंबर 2021 के सुबह 9:30 बजे काम पर गया था तथा शाम 7:30 बजे घर वापस आया देखा तो उसकी 10 वर्षीय लड़की तथा 8 वर्षीय पुत्र घर पर नहीं थे जिनकी आसपास तलाश करते नहीं मिला उक्त पर से अपराध धारा 363 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

घटना की गम्भीरता को देखते हुए वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा द्वारा तत्काल टीम गठित कर गुम बालक/बालिका की तलाश हेतू निर्देशित किया गया। जिस पर से थाना खजाना द्वारा लगातार ओमकारेश्वर, देवास व आसपास के अन्य इलाके मे टीम भेजकर बालक बालिकाओं की तलाश किया, इसी बीच दिनांक 06 अक्टूबर 2021 को मुखबिर सूचना प्राप्त हुई की 05  नाबालिग बच्चे नवलखा इंदौर के समीप एक महिला के साथ भीख मांग रहे हैं। उक्त की तस्दीक करते टीम द्वारा महिला रीना पति संतोष निवासी नवलखा इंदौर को हिरासत मे लेकर हिकमत अमली से पूछताछ करते बताया कि उक्त नाबालिगों में से दो बालिकाएं क्रमशः 10 व 06 वर्ष उसकी स्वयं की है तथा एक बालिका 13 वर्ष व एक बालक 10 वर्ष खजराना का है एवं एक बालिका 15 वर्ष निवासी स्कीम नंबर 140 की निवासी है। उक्त महिला उक्त पांचों नाबालिग बच्चों को लेकर ओमकारेश्वर, नवलखा बस स्टैंड व अन्य मन्दिरो के आसपास भिख मँगवाती थी।

 उक्त पर से आरोपिया महिला को विधिवत गिरफ्तार कर उक्त नाबालिग बच्चों को बरामद किया गया। तथा प्रकरण में धारा 363a  भादवि व धारा 76 बालको का देखरेख संरक्षण अधिनियम 2015 का समावेश किया गया तथा आरोपिय के विरूध विधिक कार्यवाही पुर्ण कर न्यायिक हिरासत मे निरुध कराया गया। 

 आरोपिया अपनी बताई बालिकाओ के सम्बंध मे कोई साक्ष्य प्रस्तूत नही कर सकी इसलिये बालिकाओ को child line के जिम्मे किया गया व शेष को अपने परिजनो के सुपर्द किया। 

उक्त कार्रवाई में थाना प्रभारी खजराना दिनेश वर्मा, उप निरीक्षक राम बाई वटी, उप निरीक्षक हरिसिंह धार्वे, प्रधान आरक्षक जितेंद्र सिंह, आरक्षक शशांक, आरक्षक लोकेंद्र सिंह की सराहनीय भूमिका रही।