भोपाल । पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की नर्मदा परिक्रमा चार साल बाद एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार सुर्खियों में आने की वजह उनकी नर्मदा परिक्रमा पर लिखी गई एक किताब है जिसे खुद उन्हीं के निज सचिव ओम प्रकाश शर्मा ने लिखा है। नर्मदा पथिक शीर्षक से प्रकाशित हुई इस किताब का विमोचन 30 सितंबर को भोपाल के विधानसभा भवन में मानसरोवर ऑडिटोरियम में किया जाएगा। दिग्विजय सिंह समेत कांग्रेस के कई और बड़े नेता इसमें शामिल होंगे। खास बात ये है कि किताब के विमोचन कार्यक्रम के लिए बीजेपी के कई बड़े नेताओं को निमंत्रण भेजा गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, प्रह्लाद पटेल समेत कई बड़े नेताओं को विमोचन कार्यक्रम के निमंत्रण कार्ड भेजे गए हैं। अब देखना ये है कि आखिर किताब के विमोचन कार्यक्रम में क्या बीजेपी के नेता शामिल होंगे।


किसान में दिग्गी राजा का यात्रा वृतांत
दिग्विजय सिंह ने 2017-18 में उस वक्त पैदल नर्मदा परिक्रमा की थी जब प्रदेश में चुनाव होने थे। दिग्विजय सिंह के साथ उनकी पत्नी अमृता सिंह भी इस यात्रा में उनके साथ थी। हालांकि कांग्रेस दिग्विजय सिंह की इस यात्रा को हमेशा से एक धार्मिक यात्रा बताती रही है लेकिन बीजेपी इसे लेकर सियासी सवाल खड़े करती रही है। दिग्विजय सिंह के निज सचिव ओम प्रकाश शर्मा भी इस यात्रा में उनके साथ थे। करीब 410 पन्नों की किताब में दिग्विजय सिंह के अनुभवों के आधार पर यात्रा को संस्मरण के तौर पर प्रकाशित किया गया है। दिग्विजय सिंह की नर्मदा यात्रा पर लिखी किताब के निमंत्रण को लेकर बीजेपी के प्रदेश महामंत्री भगवान दास सबनानी ने कहा है कि कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने बीजेपी प्रदेश मुख्यालय में आकर निमंत्रण दिया है। पुस्तक विमोचन के कार्यक्रम में कौन नेता शामिल होगा कौन नहीं, ये उनके पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों के मुताबिक तय होगा। वहीं कांग्रेस के प्रवक्ता अजय यादव की मानें दिग्विजय सिंह की यात्रा धार्मिक यात्रा थी। ये यात्रा पर्यावरण के लिहाज से भी अहम थी। किताब पूरी तरह से गैर राजनीतिक है।