भारत अपनी सनातन धर्म, संस्कृति और सभ्यता के लिए जाना जाता है। देशभर में कई महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों के अलावा अनगिनत छोटे-बड़े मंदिर हैं। साथ ही अन्य धर्मों के भी कई पवित्र स्थल हैं। इतिहासकारों की मानें तो सनातन धर्म में दैविक काल से मूर्ति पूजा की जाती है। वर्तमान समय में भी देश में कई प्राचीन मंदिर उपस्थित हैं। जहां, मूर्ति रूप में देवी देवताओं की पूजा उपासना की जाती है। अगर आप भी प्राचीन मंदिरों में स्थापित देवी देवताओं के दर्शन कर उनका आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं, तो देश की इन जगहों पर एक बार जरूर जाएं।

कोणार्क मंदिर, ओड़िशा

13 वीं सदी में बना कोणार्क मंदिर सूर्य देव को समर्पित है। यह मंदिर कलिंग वास्तु कला का एक अनुपम उदाहरण है। यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल में भी कोणार्क मंदिर का नाम दर्ज है। इस मंदिर में 24 पहियों वाले रथ पर सूर्य देव विराजमान हैं। ओड़िशा के प्रमुख तीर्थ स्थलों में प्रथम स्थान पर कोणार्क मंदिर है। प्राचीन मंदिर के दर्शन हेतु एक बार कोणार्क मंदिर जरूर जाएं।

कैलाश मंदिर, महाराष्ट्र

कैलाश मंदिर महाराष्ट्र में स्थित है। यह मंदिर भी वास्तु कला का बेहतरीन उदाहरण है। अगर आप प्राचीन मंदिरों हेतु तीर्थ यात्रा पर जाना चाहते हैं, तो कैलाश मंदिर जाएं। इतिहासकारों की मानें तो 8वीं शताब्दी में कैलाश मंदिर का निर्माण करवाया गया था। एलोरा गुफा में कई गुफाएं हैं। इनमें कैलाश मंदिर गुफा 16 में है। जब कभी मौका मिले, तो एलोरा देखने जरूर जाएं।

दिलवाड़ा मंदिर, राजस्थान

माउंट आबू में दिलवाड़ा मंदिर स्थित है। यह बेहद खूबसूरत मंदिर है। इनमें विमल वसाही मंदिर सबसे पुराना है। यह मंदिर भगवान आदिनाथ को समर्पित है, जो जैन तीर्थंकर हैं। इस मंदिर का निर्माण साल 1032 करवाया गया था। दिलवाड़ा मंदिर में जैन तीर्थंकरों को समर्पित पांच प्रमुख मंदिर हैं। अपने परिवार के साथ दिलवाड़ा मंदिर देखने एक बार जरूर जाएं।