नई दिल्ली । पूर्व क्रिकेटर राहुल द्रविड़ टीम इंडिया के साथ नई भूमिका में दिखाई देने वाले हैं। उन्हें भारतीय क्रिकेट टीम का मुख्य कोच नियुक्त किया गया है। द्रविड़ आईपीएल 2021 के फाइनल के लिए बीसीसीआई के मेहमानों में से एक थे और उसी दौरान उन्होंने कोच बनने के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया। द्रविड़ का अनुबंध 2023 तक चलेगा। वह टी 20 विश्व कप 2021 के बाद यानी 14 नवंबर के बाद अपना कार्यभार संभालेंगे।
राहुल द्रविड़ वर्तमान में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी के प्रमुख हैं और भारत के मुख्य कोच का पद संभालने से पहले वह यह पद छोड़ देंगे। राहुल द्रविड़ को कोच के तौर पर भारी भरकम अनुबंध की पेशकश की गई है। सूत्रों के अनुसार उन्हें 10 करोड़ रुपए वेतन के रूप में दिए जाएंगे। इतनी राशि अब तक किसी भारतीय कोच को नहीं दी गई है।
द्रविड़ के सहयोगी पारस म्हाम्ब्रे को गेंदबाजी कोच के रूप में शामिल किया गया है, जबकि विक्रम राठौर बल्लेबाजी कोच के रूप में टीम के साथ बने रहेंगे। पारस ने अंडर-19 स्तर पर द्रविड़ के साथ काम किया है और श्रीलंका दौरे पर भी साथ गए थे। वह भारत अंडर-19 क्रिकेट टीम के मुख्य कोच थे जिसने 2020 विश्व कप के फाइनल में जगह बनाई। द्रविड़ रवि शास्त्री की जगह लेंगे जबकि पारस भरत अरुण की जगह लेंगे।
क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर पर अब तक कोई फैसला नहीं लिया गया है। द्रविड़ के नेतृत्व में टीम इंडिया संभवत: 4 आईसीसी इवेंट खेलेगी। अगले साल टी20 वर्ल्ड कप और 2023 में 50 ओवर का वर्ल्ड कप है। इसके अलावा वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल भी 2023 में होना है। बीसीसीआई उम्मीद करेगी कि वह अपनी कोचिंग में आईसीसी इवेंट जीतने का सूखा खत्म करें। टीम इंडिया ने 2013 में चैंपियंस ट्रोफी जीती थी। उसके बाद से टीम कोई भी आईसीसी इवेंट नहीं जीती है। विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री के कार्यकाल में अब तक 2 आईसीसी इवेंट भारत ने गंवाए हैं। आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप-2021 के खिताबी मुकाबले में न्यूजीलैंड से हार मिली थी, जबकि वनडे वर्ल्ड कप-2019 के सेमीफाइनल में भी न्यजीलैंड से हार मिली थी। इसके अलावा चैंपियंस ट्रोफी-2017 में विराट की कप्तानी वाली टीम को पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल में हार मिली थी, लेकिन उस समय टीम के कोच अनिल कुंबले थे।
यह तीसरी बार होगा जब द्रविड़ टीम इंडिया के साथ काम करेंगे।
इससे पहले सन 2014 में उन्होंने टेस्ट सीरीज के लिए बल्लेबाजी सलाहकार के रूप में टीम इंडिया को इंग्लैंड की यात्रा के दौरान अपनी सेवाएं दी हैं। जुलाई 2021 में द्रविड़ अंतरिम मुख्य कोच के रूप में वापस लौटे, क्योंकि शास्त्री के नेतृत्व वाला कोचिंग स्टाफ इंग्लैंड में था। राहुल द्रविड़ के क्रिकेट करियर की बात करें तो उन्होंने 164 टेस्ट की 286 पारियों में 36 शतकों और 63 अर्धशतकों की मदद से 13288 रन बनाए हैं, जबकि 270 उनका उच्चतम स्कोर है। फैंस के बीच 'द वॉल' नाम से मशहूर द्रविड़ ने भारत के लिए 344 वनडे खेले हैं। जिसमें 12 शतक और 83 अर्धशतकों की मदद से उन्होंने 10889 रन बनाए हैं।